Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Career Advice : जानिए डिजास्टर मैनेजमेंट कैसे बनाएं कॅरि‍यर, नौकरी के है भरपूर मौके

डिजास्टर मैनेजमेंट बेहद चुनौतीपूर्ण फील्ड है। इससे जुड़े प्रोफेशनल्स नेचुरल डिजास्टर के दौरान लोगों की जान बचाने के साथ ही वहां होने वाली क्षति को कम करने की कोशिश करते हैं। अगर आपमें चुनौतियों का सामना करने की क्षमता और लोगों की सेवा करने का भाव है तो संबंधित कोर्स करके इस फील्ड में अपने कदम बढ़ा सकते हैं।

Career Advice Disaster Management Careers in IndiaCareer Advice: डिजास्टर मैनेजमेंट में बनाएं कॅरि‍यर, नौकरी के है भरपूर मौके

इन दिनों असम और बिहार समेत कई स्थानों पर बाढ़ की तबाही के बारे में आप देख-पढ़ रहे ही होंगे। अपने देश में ही नहीं दुनिया भर में प्राकृतिक आपदाओं से जुड़ी घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं। इस साल इंडोनेशिया में सुनामी, केरल, जापान और नाईजीरिया में बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं की वजह से हजारों लोगों ने अपनी जानें गंवाई हैं। बहुत से लोग इन आपदाओं की वजह से बेघर हुए हैं। हर साल बाढ़, भूकंप या दूसरी प्राकृतिक आपदाओं से करोड़ों-अरबों की क्षति होती है। ऐसी प्राकृतिक आपदाओं से जान-माल के नुकसान को कम करने और प्रभावित लोगों को राहत देने में डिजास्टर मैनेजमेंट प्रोफेशनल्स की बड़ी भूमिका होती है।

वर्क प्रोफाइल

आमतौर पर इस फील्ड में प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुकसान को कम करने से साथ, लोगों के जान-माल की हिफाजत करना भी होता है। साथ ही इस फील्ड से जुड़े प्रोफेशनल्स राहत कार्यों में भी सक्रिय भूमिका निभाते हैं। उनका कार्य यह सुनिश्चित करना होता है कि सभी आवश्यक चीजें और सुविधाएं सही समय पर आपदाग्रस्त क्षेत्र में उपलब्ध हों। देखा जाए तो डिजास्टर मैनेजमेंट का कार्य देखने में जितना आसान लगता है, वह उतना होता नहीं है। यह कार्य बेहद जोखिम भरा होता है। कभी-कभी तो उन्हें अनजान खतरों का सामना भी करना पड़ता है, जिसमें उन्हें अपनी जान को जोखिम में डालकर काम करना पड़ता है। इस बारे में एनडीआरएफ, दिल्ली के असिस्टेंट कमांडेंट कृष्ण कुमार कहते हैं, 'आज देश में कहीं भी डिजास्टर हो, एनडीआरएफ की टीम वहां तुरंत पहुंच जाती है और जान-माल का नुकसान कम से कम हो इसमें अपना अहम योगदान देती है। खाली समय एनडीआरएफ की टीमें या तो ट्रेनिंग करती हैं या फिर अपने लोकेशंस के आस-पास के जिलों में जागरूकता अभियान चलाती हैं, स्कूलों में सेफ्टी वर्कशॉप आयोजित करती हैं ताकि एरिया में किसी भी आपदा की स्थिति से निपटने के लिए उन्हें सक्षम बनाया जा सके।'

क्वालिफिकेशंस-कोर्सेस

देश के कई इंस्टीट्यूट्स में डिजास्टर मैनेजमेंट में संबंधित सर्टिफिकेट, पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा, मास्टर डिग्री कोर्स और पीएचडी प्रोग्राम चलाए जाते हैं। इस विषय में सर्टिफिकेट और बैचलर कोर्स के लिए 12वीं पास, पीजी डिप्लोमा या मास्टर डिग्री प्रोग्राम में प्रवेश के लिए ग्रेजुएशन (बीए/बीएससी/बीकॉम) होना जरूरी है। आप डिजास्टर मैनेजमेंट में सर्टिफिकेट कोर्स, पीजी डिप्लोमा, बीए, एमए, एमबीए, एमएससी, एमफिल, पीएचडी, रिसर्च, ट्रेनिंग प्रोग्राम आदि कर सकते हैं। इस क्षेत्र से जुड़े कुछ अन्य कोर्स हैं, डिजास्टर मिटिगेशन में एमएससी, जिओ-हैजर्ड में एमएससी और पीजी डिप्लोमा, सर्टिफिकेट/ अवेयरनेस कोर्स, फायर इंजीनियरिंग और सेफ्टी में डिग्री/ डिप्लोमा कोर्स, अर्थक्वेक इंजीनियरिंग में एमटेक एवं पीएचडी आदि। वैसे, डिजास्टर मैनेजमेंट में पीएचडी करने के लिए इससे संबंधित सब्जेक्ट में 55 प्रतिशत अंकों के साथ मास्टर डिग्री होना आवश्यक है। हालांकि यह अलग-अलग यूनिवर्सिटीज के हिसाब से भिन्न भी हो सकता है।

पर्सनल स्किल्स

डिजास्टर मैनेजमेंट बेहद चैलेंजिंग फील्ड है। इसमें रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान खतरों से झूझना पड़ता है। कई बार अपनी जान को भी खतरे में डालकर राहत कार्य करना होता है। इसलिए डिजास्टर मैनेजमेंट के प्रोफेशनल्स को माउंटेनियरिंग समेत तमाम तरह की ट्रेनिंग दी जाती है। चूंकि इस फील्ड में करियर बनाने के लिए किताबी नॉलेज की अपेक्षा व्यावहारिक ज्ञान ज्यादा जरूरी है। इसलिए इस करियर में आने के लिए आपके अंदर कुछ कर गुजरने का जुनून और जज्बा भी होना चाहिए। समाज में बेहतर कार्य करने का भाव हो, तभी ऐसे साहसिक कार्य वाले क्षेत्र में कदम आगे बढ़ाने चाहिए। इतना ही नहीं, इस फील्ड में कार्य करने वाले लोगों में तुरंत निर्णय लेने की क्षमता भी होनी चाहिए।

ऑपर्च्युनिटी

इस क्षेत्र से जुड़े प्रोफेशनल्स के लिए गवर्नमेंट और प्राइवेट दोनों क्षेत्रों में जॉब्स के भरपूर मौके उपलब्ध हैं। डिजास्टर मैनेजमेंट के क्षेत्र में सरकारी विभागों, आपातकालीन सेवाओं, लॉ इंफोर्समेंट, लोकल अथॉरिटीज, रिलीफ एजेंसीज, गैर सरकारी प्रतिष्ठानों और यूनाइटेड नेशंस जैसी अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों में नौकरियों की अच्छी संभावनाएं हैं। प्राइवेट सेक्टर में भी जॉब के कई विकल्प हैं, जैसे केमिकल, माइनिंग, पेट्रोलियम जैसी रिस्क इंडस्ट्रीज में करियर बनाया जा सकता है। इन सभी इंडस्ट्रीज में डिजास्टर मैनेजमेंट सेल होता है। यहां ऑपरेशनल एनालिस्ट, डाटा बेस एनालिस्ट, नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर, एडमिनिस्ट्रेटर, सिक्योरिटी एडमिनिस्ट्रेटर के रूप में करियर बना सकते हैं। इसी तरह तमाम एनजीओ में भी आपदा प्रबंधन के जानकारों को इन दिनों नौकरी में काफी प्राथमिकता मिल रही है। इंटरनेशनल आर्गेनाइजेशन जैसे रेडक्रॉस, संयुक्त राष्ट्र संगठन (यूएनओ) आदि में भी काफी संभावनाएं मौजूद हैं। आप चाहें, तो सामाजिक कार्यकर्ता बनकर या फिर टीचिंग, ट्रेनिंग और कंसल्टेंसी के जरिए भी इस फील्ड में अच्छी कमाई की जा सकती है।

ऐसे मिलती है एंट्री

नेशनल डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स (एनडीआरएफ) और स्टेट डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स (एसडीआरएफ) कहीं भी प्राकृतिक आपदाओं में लोगों की जान-माल के हिफाजत में सबसे आगे रहता है। आमतौर पर इन्हीं के साथ मिलकर आर्मी और पुलिस राहत अभियान चलाती है। यही वजह है कि देश सेवा का जज्बा रखने वाले युवा सेना के बाद आजकल एनडीआरएफ और एसडीआरएफ में भी काफी दिलचस्पी ले रहे हैं। इसमें रोजगार के काफी अवसर हैं। एनडीआरएफ की स्थापना देश में वर्ष 2006 में हुई। देश भर में अभी एनडीआरएफ के कुल 12 बटालियंस हैं और हर एक बटालियन में 18 टीमें हैं। इसके हर एक टीम में 47 जवान शामिल होते हैं। एनडीआरएफ में कोई भी डायरेक्ट भर्ती नहीं होती है। ये सभी जवान आमतौर पर अर्द्धसैनिक बलों से डेप्युटेशन के आधार पर सात साल के लिए इस फोर्स में आते हैं। अगर आप भी एनडीआरएफ-एसडीआरएफ का हिस्सा बनकर समाज-देश की सेवा करना चाहते हैं, तो पैरामिलिट्री फोर्सेज के जरिए इस फोर्स में एंट्री पा सकते हैं। इसके लिए वैकेंसी से संबंधित नोटिफिकेशंस पर ध्यान रखना होगा।

सैलरी पैकेज

आपदा प्रबंधन में सर्टिफिकेट की पढ़ाई के बाद आप शुरुआत में किसी भी संस्थान में 20 से 25 हजार रुपए की सैलरी आसानी से पा सकते हैं। आगे अनुभव और कार्य की दक्षता बढ़ने के साथ ही सैलरी भी इसमें बढ़ती रहती है। बढ़े स्तर पर 50 हजार से एक लाख रुपए भी वेतन मिल सकता है।

मेन इंस्टीट्यूट्स

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विवि, दिल्ली

वेबसाइट- www.ignou.ac.in

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ रिमोट सेंसिंग, देहरादून

वेबसाइट- www.iins-nrsc.gov.in

गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी, दिल्ली

वेबसाइट- www.ipu.ac.in

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट, दिल्ली

वेबसाइट- www.nidm.gov.in

Next Story
Share it
Top