Logo
election banner
Tesla EV: एलन मस्क की कंपनी टेस्ला इलेक्ट्रिक कारों के निर्माण के लिए महाराष्ट्र, गुजरात और तमिलनाडु पर फोकस कर रही है। कंपनी प्लांट के लिए लोकेशन सर्च करने अप्रैल के अंत तक एक टीम भेजेगी।

(मंजू कुमारी)
Tesla EV: अमेरिकी अरबपति एलन मस्क की कंपनी टेस्ला भारत में इलेक्ट्रिक कारों (EV) प्रोडक्शन को लेकर जोरशोर से तैयारियों में जुट गई है। कंपनी ने यहां अपना प्लांट स्थापित करने के लिए साइट लोकेशन की सर्चिंग शुरू कर दी है। इसी महीने टेस्ला के कुछ अधिकारियों की टीम भारत आएगी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह टीम महाराष्ट्र, तमिलनाडु और गुजरात में प्लांट शुरू करने के लिए स्टडी कर रिपोर्ट बोर्ड मैनेजमेंट को सौंपेगी।  

2 से 3 बिलियन डॉलर हो सकती है प्लांट की लागत
फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट में बुधवार को कहा गया है कि भारत में स्थापित होने वाले टेस्ला के प्लांट की लागत 2 से 3 बिलियन डॉलर तक हो सकती है। अप्रैल के अंत तक भारत आने के बाद टेस्ला की टीम महाराष्ट्र, गुजरात और तमिलनाडु जैसे ऑटोमोटिव हब वाले राज्यों पर ध्यान केंद्रित करेगी। बता दें कि एलन मस्क की इलेक्ट्रिक कार मैन्यूफ्रैक्चरर कंपनी टेस्ला ने मार्च तिमाही में बिक्री में भारी गिरावट दर्ज की है।

आखिर क्यों टेस्ला कारों की सेलिंग में आई कमी?
ऑस्टिन स्थित कंपनी टेस्ला ने कहा कि दुनियाभर में जनवरी से मार्च तक उसने 3,86,810 व्हीकल्स की डिलीवरी की। यह पिछले साल की समान अवधि में सेल हुई 4,23,000 यूनिट से करीब 9 फीसदी कम है। दुनियाभर में कॉम्पिटीशन बढ़ने, ग्लोबल इलेक्ट्रिक व्हीकल सेलिंग स्लो ग्रोथ और नए ग्राहकों को लुभाने के लिए कारों की कीमतों में कटौती नहीं होनी टेस्ला की विक्री में गिरावट की प्रमुख वजह मानी जा रही है। 

टेस्ला ने जनवरी में दे दिए थे गिरावट के संकेत
मॉडल 3 और Y की डिलीवरी साल-दर-साल 10.3 प्रतिशत गिरकर 369,783 हो गई। अन्य मॉडल, पुराने X, S और नए साइबरट्रक की बिक्री करीब 60 प्रतिशत बढ़कर 17,027 हो गई। जनवरी में ईवी मैन्यूफ्रैक्चरर कंपनी टेस्ला ने इस साल बिक्री में "काफी कम" बढ़ोतरी का संकेत दिया था, लेकिन इसमें 9 फीसदी की गिरावट आई। जिसके बाद कंपनी के शेयरों को भी ग्लोबल लेवल पर गिरावट का सामना करना पड़ा और इसी वजह से एलन मस्क के सिर से दुनिया के सबसे अमीर उद्योगपति का ताज छिन गया।

jindal steel Ad
5379487