Logo
election banner
UP Police Paper Leak: उत्तर प्रदेश कांस्टेबल भर्ती पेपर लीक मामले में यूपी एसटीएफ ने एक और आरोपी को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ ने उसके पास से कुछ अहम दस्तावेज भी बरामद किए हैं।

UP Police Paper Leak: उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले में नया मोड सामने आया है। अब इसके तार हरियाणा से जुड़ गए हैं। यूपी एसटीएफ ने एक और आरोपी विक्रम पहल tको गिरफ्तार किया है, जो हरियाणा के जींद का रहने वाला है। एसटीएफ ने उसके पास से कुछ अहम दस्तावेज भी बरामद किए हैं।

बागपत से हुई गिरफ्तारी
पकड़ा गया आरोपी विक्रम पहल जींद के गांव बराह खुर्द का रहने वाला है। विक्रम पुलिस भर्ती की लिखित परीक्षा का पेपर लीक करने वालें गैंग का अहम सदस्य है। आरोपी की गिरफ्तारी यूपी के बागपत जिले के थाना थाना खेकडा से हुई है।

दिल्ली पुलिस में कॉन्स्टेबल था विक्रम
यूपी STF ने आरोपी विक्रम सिंह पहल को  बागपत से पकड़ा है। आरोपी विक्रम सिंह पहल हरियाणा के जींद का रहने वाला है और दिल्ली पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल है। पेपर लीक में नाम सामने आने के बाद करीब 1 महीने से फरार चल रहा था। विक्रम ने पेपर को अलग-अलग लोगों को देकर उसे मानेसर और रीवा में पढ़वाया था। STF ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिलने के बाद विक्रम को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ में विक्रम ने बताया कि 2010 में उसका चयन बतौर कॉन्स्टेबल दिल्ली पुलिस ने हुआ था। इस दौरान उसकी पोस्टिंग तीसरी बटालयिन, पहली बटालियन, ट्रैफिक और फिर सीएम बटालियन में रही।

हरियाणा से ये दूसरी गिरफ्तारी
यूपी पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले में हरियाणा के जींद से ये दूसरी गिरफ्तारी है। इससे पहले एसटीएफ ने जींद हरियाणा के रहने वाले महेंद्र शर्मा को गिरफ्तार किया था। इस पर आरोप थे कि महेंद्र ने 18 फरवरी को दूसरी पाली का पेपर आउट कराया था। बताया जा रहा है कि गुरुग्राम के रिजॉर्ट में 16 फरवरी को ही यूपी पुलिस सिपाही भर्ती का पेपर आ गया था। बताया जा रहा है कि महेंद्र अभ्यर्थियों को पेपर मुहैया कराता था। महेंद्र मेरठ से गिरफ्तार किए गए आरोपियों के संपर्क में भी था।

दूसरी पाली के पेपर लीक का आरोप
यूपी पुलिस के अनुसार 18 फरवरी को यूपी पुलिस सिपाही भर्ती में दूसरी पाली का पेपर लीक हुआ था। उसे लीक कराने में हरियाणा के कुछ लोगों का हाथ बताया जा रहा है। इसमें हरियाणा के महेंद्र शर्मा को मुख्य आरोपी माना जा रहा है।

इसके साथ ही 16 फरवरी को रिजॉर्ट में करीब एक हजार अभ्यर्थियों को पेपर की उत्तर कुंजी पढ़वाने की बात भी सामने आ चुकी है। बताया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस में तैनात विक्रम पहले महेंद्र को रिजॉर्ट में ले गया था।

हरियाणा के रिजॉर्ट में रटाया गया पेपर
उत्तर प्रदेश पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती के पेपर मामले का कनेक्शन हरियाणा से पहले ही जुड़ चुका है। यूपी STF की जांच में खुलासा हो चुका है कि 18 फरवरी को लीक हुए पेपर की आंसर सीट करीब 800 अभ्यर्थियों को गुरुग्राम में मानेसर के एक रिजॉर्ट में बैठाकर रटाई गई थी। यह खुलासा तब हुआ जब STF ने जांच करते हुए करीब 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया। इनमें से एक आरोपी महेंद्र शर्मा जींद का रहने वाला है। उसी ने टीम को बताया कि यूपी कॉन्स्टेबल भर्ती का पेपर गुरुग्राम के एक रिजॉर्ट में लीक किया गया था। इसके बदले में हर अभ्यर्थी से 7 लाख रुपए लिए गए थे।

jindal steel Ad
5379487