Logo
election banner
रोहतक की सुनारियां जेल में बंद आंतकवादी गतिविधियों में शामिल पाकिस्तानी नागरिक ने अपनी सेल में फंदा लगाकर आत्महत्या का प्रयास किया। साथी कैदियों के शोर मचाने पर सुरक्षा कर्मियों ने उसे बचाकर अस्पताल में भर्ती करवाया।

रोहतक। आतंकवादी गतिविधियों में शामिल पाकिस्तान के इमादुल्ला उर्फ बाबर अली ने सुनारियां जेल में फंदा लगाकर आत्महत्या की कोशिश की। यह घटना 20-21 अप्रैल की रात को करीब 12 बजे हुई। इमादुल्ला को तुरंत जेल के अस्पताल में भर्ती करवाकर उसे प्राथमिक उपचार दिया गया। आत्महत्या की कोशिश करने के मामले में शिवाजी कॉलोनी पुलिस ने इमादुल्ला के खिलाफ केस दर्ज किया है। इमादुल्ला उर्फ अली बाबर पंजाब पाकिस्तान के वासीवाला तहसील के दीपालपुर का रहने वाला है। बताया जा रहा है कि वह एक आतंकी संगठन से जुड़ा था। इससे पहले वह जम्मू कश्मीर की केंद्रीय जेल कोट भलवाल में था। 

पिछले साल अप्रैल में जम्मू से किया था शिफ्ट 

सरकार के आदेशानुसार जम्मू कश्मीर से बदलकर उसे पिछले साल 10 अप्रैल को सुनारियां जेल में शिफ्ट किया था। वह यहां वार्ड 3 में बंद था। उसके खिलाफ 16 यूएपीए एक्ट 307 व आर्म्ड एक्ट समेत जम्मू कश्मीर के बारामूला जिले के उरी थाने में मामला दर्ज है। घटनाक्रम के अनुसार इमादुल्लाह उर्फ अली बाबर ने 20 व 21 अप्रैल की रात लगभग 12:00 बजे अपनी सैल में ओढ़ने वाली चादर से फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश की। 

कैदियों का शोर सुनकर आए सुरक्षाकर्मी

उस सेल में बंद अन्य कैदियों ने आंख खुली और शोर मचाया तो ड्यूटी पर तैनात कर्मचारीयो ने मिलकर ईमादुल्लाह उर्फ अली बाबर को नीचे उतारा। ड्यूटी पर तैनात कर्मचारी वार्डर सत्यवान, अनिल कुमार उप सहायक अधीक्षक, वार्डर जसबीर तुरंत मौके पर पहुंचे। ईमादुल्लाह को तुरंत जेल परिसर में स्थित अस्पताल में भर्ती करवाया। वहीं जेल अधीक्षक की शिकायत पर इमादुल्लाह के खिलाफ जेल नियमों का उल्लंघन करने पर शिवाजी कॉलोनी थाने में मामला दर्ज करवाया।

46 आतंकवादी बंद हैं

गौरतलब है कि रोहतक की सुनारिया जेल में खूंखार अपराधी व आतंकवादियों के लिए अलग से सेल बनाई गई है, जिसमें खास तौर पर जम्मू कश्मीर से बंदी व कैदियों को यहां रखा जाता है। सुनारिया जेल में 46 आतंकवादी बंद हैं, 19 को नजरबंद किया गया था। 27 विचाराधीन बंदी है।
 

jindal steel Ad
5379487