Logo
हरियाणा में पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष उदय भान के नेतृत्व में विधायकों ने राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा और विशेष सत्र बुलाकर भाजपा सरकार को विश्वासमत लेने, नहीं लेने की सूरत में सरकार को बर्खास्त करने की मांग की।

योगेंद्र शर्मा, हरियाणा: सूबे में जैसे- जैसे विधानसभा चुनावों का वक्त नजदीक आता जा रहा है, वैसे-वैसे प्रदेश में सियासी हलचल तेज होती जा रही है। वीरवार को नेता विपक्ष और पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष उदय भान के नेतृत्व में विधायकों ने राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा और विशेष सत्र बुलाकर भाजपा सरकार को विश्वासमत लेने, नहीं लेने की सूरत में सरकार को बर्खास्त करने की मांग की। नेताओं ने दावा किया कि भाजपा के पास बहुमत नहीं है, इसलिए राज्य में राज्यपाल राष्ट्रपति शासन लागू कराएं और राज्यपाल को निर्देश दें। उधर, विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने साफ कर दिया कि कुल मिलाकर वर्तमान में नायब सैनी सरकार के पास पूर्ण बहुमत है, जो दो तीन माह पहले ही हासिल किया है।

किरण चौधरी के विरुद्ध कार्रवाई का पत्र पहुंचा विधानसभा

कांग्रेस की विधायक और वरिष्ठ नेत्री किरण चौधरी व उनकी बेटी श्रुति के कांग्रेस को एक दिन पहले अलविदा कर भाजपा में शामिल हो जाने से राजधानी चंडीगढ़ में भी सियासत तेज हो गई है। कांग्रेस का हाथ छोड़कर भाजपा में शामिल होने के साथ ही कांग्रेस की ओर से स्पीकर विस ज्ञानचंद गुप्ता को शिकायत पहुंच गई है। किरण के विरुद्ध तुरंत पत्र भेजकर सदन में चीफ व्हिप बीबी बतरा और सदन में कांग्रेस के उपनेता आफताब अहमद की ओर से विस अध्यक्ष को एक दिन पहले पत्र लिखा था कि तुरंत ही विधायक किरण को अयोग्य घोषित किया जाए।

बंसीलाल की विरासत संभाल रही है किरण चौधरी

यहां पर बता दें कि एक दिन पहले बंसीलाल परिवार की विरासत संभाल रही और कांग्रेस की विधायक किरण चौधरी ने बदलते सियासी घटनाक्रम के तहत बुधवार को दिल्ली में भाजपा के कमल का फूल थाम लिया। उनके साथ में उनकी पूर्व सांसद बेटी श्रुति भी शामिल हुई। इस सियासी हलचल के बीच में कांग्रेस की ओर से चीफ व्हिप बीबी बतरा और सदन में कांग्रेस के उपनेता आफताब अहमद ने विस अध्यक्ष को शिकायत पत्र लिखकर किरण चौधरी को अयोग्य घोषित करने की मांग की है।

किरण का इस्तीफा अभी नहीं मिला : ज्ञानचंद गुप्ता

विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता का कहना है कि आधिकारिक तौर पर किरण चौधरी का इस्तीफा नहीं मिला है। अगर वे खुद आकर इस्तीफा देती हैं, तो उसके बाद ही विचार किया जाएगा। वैसे भी कांग्रेस को छोड़ भाजपा में शामिल होने की सूचना नहीं है। विस अध्यक्ष ने यह भी कहा कि किरण चौधरी के विरुद्ध कांग्रेस पार्टी की शिकायत का अध्ययन करने के बाद ही कुछ कहा जाएगा, उस पर विचार होगा। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि किरण चौधरी व श्रुति का दक्षिण हरियाणा ही नहीं पूरे प्रदेश में बड़ा नाम है। उनके आने से भाजपा मजबूत होगी। भाजपा को खासतौर पर उनके इलाकों में फायदा होगा। गुप्ता ने उनके आने का स्वागत किया है।

मानसून सत्र बुलाने पर सरकार करेगी विचार

विस अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता का कहना है कि स्पेशल सत्र अथवा मानसून सत्र बुलाने का काम तो सरकार ही कर सकती है। इसकी अनुमति राज्यपाल ही देंगे। विस अध्यक्ष गुप्ता ने कहा कि कांग्रेस की ओर से राज्यपाल को ज्ञापन  सौंपा गया है लेकिन दो तीन माह पहले ही नायब सैनी सरकार ने सदन में अपना विश्वासमत प्राप्त किया है। मीडिया में बयान देकर सरकार को बर्खास्तगी की बयानबाजी पर ज्यादा कुछ नहीं कहा जाएगा। हरियाणा विधानसभा के अंदर 87 विधायकों की संख्या हैं। इसमें से 41 विधायक भाजपा के पास हैं। 29 कांग्रेस के पास हैं। 10 जजपा विधायक हैं। पांच निर्दलीय विधायक, एक हलोपा से और एक इनेलो के अभय चौटाला विस सदस्य हैं।

कांग्रेसी दिग्गजों ने राज्यपाल से मिलकर रखी बात

प्रदेश कांग्रेस की ओर से विधिवत कार्यक्रम के अनुसार राजभवन जाकर नेता विपक्ष औऱ पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष उदयभान सिंह, विधायक व चीफ व्हिप बीबी बतरा, सदन में उपनेता आफताब अहमद ने ज्ञापन सौंप दिया है।

jindal steel Haryana Ad hbm ad
5379487