Logo
हरियाणा के नारनौल में रघुनाथपुरा की पहाड़ियों के साथ बनाए गए डंपिंग यार्ड में दो दिनों से आग लगी हुई है। इस आग पर काबू पाने के लिए दमकल कर्मियों को झुलसा देने वाली गर्मी में बार-बार मशक्कत करनी पड़ी, लेकिन कूड़े के बार-बार सुलगने से उनकी परेशानी कम नहीं हुई।

Narnaul: नगर परिषद द्वारा रघुनाथपुरा की पहाड़ियों के साथ बनाए गए डंपिंग यार्ड में दो दिनों से आग लगी हुई है। इस आग पर काबू पाने के लिए दमकल कर्मियों को झुलसा देने वाली गर्मी में बार-बार मशक्कत करनी पड़ी, लेकिन कूड़े के बार-बार सुलगने से उनकी परेशानी कम नहीं हुई। आग पर काबू पाने के लिए दमकल की पांच गाड़ियों को लगाया गया और पास से गुजरती नहर से पानी लेकर आग पर काबू पाने का प्रयास किया गया। दमकल कर्मियों ने आग को फैलने से रोकते हुए वहां बनी 25-30 झुग्गियों, बुलडोजर एवं डंपिंग मशीन को बचा लिया।

पहाड़ियों के समीप बना रखा है डंपिंग यार्ड

जानकारी अनुसार नगर परिषद ने रघुनाथपुरा की पहाड़ियों के समीप कूड़ा डालने का डंपिंग यार्ड बना रखा है। पूरे शहर से कूड़ा उठाकर नगर परिषद के टैंपों एवं ट्रैक्टर-ट्राली यहां डालकर चले जाते हैं, जो करीब चार-पांच एकड़ में फैला हुआ है। इसी कूड़े में बुधवार प्रात: अज्ञात कारणों से आग लग गई, जिसकी फायर ब्रिगेड को बुधवार सवेरे करीब 8 बजे जानकारी मिली और फॉयर ब्रिगेड की दो गाड़ियां तत्परता से मौके पर भेजी गई। करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया, लेकिन आग दोपहर को करीब 1:40 बजे पुन: धधक गई। दोपहर के समय भीषण गर्मी एवं लू के कारण वह फैल गई। मौके पर फायर ब्रिगेड की नारनौल के अलावा अटेली, महेंद्रगढ़ एवं नांगल चौधरी से भी गाड़ियां बुलानी पड़ी और पांच गाड़ियां मौके पर लगानी पड़ी, जो देर रात करीब 10:30 बजे तक आग बुझाती रही।

वीरवार सुबह दोबारा भड़क उठी आग

बुधवार रात को आग बुझाने के बाद दमकल विभाग की गाड़ी वापस लौट आई, लेकिन वीरवार सुबह फिर आग भड़क गई। सूचना पाकर सुबह करीब पौने छह बजे दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाना शुरू किया। पानी के लिए पास से गुजरती नहर में ईंजन लगाया गया, जिससे गाड़ियों को पानी सप्लाई किया गया। तेज धूप एवं हवाएं चलने के कारण आग पर काबू पाने के लिए दमकल कर्मियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी। हालांकि इस आगजनी से कूड़ा-करकट ही जला और कोई जान-माल का नुकसान नहीं हुआ। दमकल कर्मियों ने पास बनी झुग्गियों, बुलडोजर एवं डंपिंग यार्ड की मशीनों को बचा लिया। डंपिंग यार्ड के अलावा गांव हुडीना के ईंधन में भी आग लग गई थी। जहां एक दमकल गाड़ी ने मौके पर पहुंच कर आग पर काबू पाया।

डंपिंग यार्ड की आग बुझाने में कर्मचारियों को बहाना पड़ा पसीना

फॉयर अफसर राजबीर ने बताया कि डंपिंग यार्ड की आग पर काबू पाने के लिए दमकल कर्मियों को काफी पसीना बहाना पड़ा। हालांकि आग पर काबू पा लिया गया है। गर्मी के सीजन में प्रतिदिन तीन-चार आगजनी की घटनाओं की सूचना मिल रही है। उनका प्रयास रहता है कि सूचना मिलने पर तुरंत मौके पर पहुंच कर आग पर काबू पाया जा सके। डंपिंग यार्ड वाली जगह पर 25-30 झुग्गियां थी और डंपिंग मशीनें लगी हुई थी, जिन्हें बचा लिया गया है। लोगों को भी चाहिए कि वह आगजनी के प्रति सतर्क रहें और कोई ऐसी हरकत न करें, जिससे आगजनी का सामना करना पड़े। आम लोग खासकर ग्रामीणों को ईंधर अपने घरों के पास डालने की बजाए दूर डालना चाहिए, ताकि आग घरों तक न फैल सके।

jindal steel Ad
5379487