Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

PM मोदी के उम्मीदों से भरे तीन साल, बेमिसाल

मोदी सरकार को सत्ता में आए तीन साल हो गये।

PM मोदी के उम्मीदों से भरे तीन साल, बेमिसाल

मोदी सरकार को सत्ता में आए तीन साल हो गये। आज देश के कोने-कोने में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के समर्थक जश्न मना रहे हैं। वहीं उनके विरोधी मीडिया में और अन्यत्र उनकी कटु आलोचना कर रहे हैं। किसी भी समस्या पर गौर करने के दो तरीके होते हैं। यदि किसी गिलास में पानी भरा हो तो जो समर्थक हैं और व्यावहारिक दृष्टिकोण रखते हैं तो वे कहेंगे कि कम से कम आधा गिलास तो भरा ही है।

कुछ तो प्यास बुझ ही जाएगी। परन्तु जो आलोचक हैं वे कहेंगे कि गिलास तो आधा खाली है। इससे प्यास नहीं बुझेगी। ठीक ऐसा ही मोदी सरकार की उपलब्धियों के बारे में आज हो रहा है। समर्थक जश्न मना रहे हैं और आलोचक आग उगल रहे हैं। एक बात तो माननी ही होगी कि मोदी सरकार के तीन वर्षों में कोई बड़ा घोटाला नहीं हुआ।

भ्रष्टाचार की कोई वारदात सामने नहीं आई। इसके पहले मनमोहन सिंह सरकार में घोटालों का ही दौर था। लोग घिनौने घोटालों से इतने तंग आ गये थे कि वे हर हालत में किसी दूसरी पार्टी के नेता को वोट देने के लिये तैयार हो गये थे। शायद यही कारण था कि नरेन्द्र मोदी को लोकसभा में भारी बहुमत मिला। मनमोहन सिंह सरकार में जो बड़े बड़े घोटाले उजागर हुए थे उनके दोषियों को आज सजा मिल रही है।

स्वतंत्र भारत के इतिहास में किसी सचिव स्तर के अधिकारी को कड़ी सजा कोर्ट ने नहीं दी थी। आज जब कोयला घोटाले का पर्दाफाश हुआ और उस पर लम्बे अरसे तक बहस हुई तो कोर्ट ने सचिव स्तर के अफसर को कड़ी सजा दे दी। अभी तो शुरूआत ही है। जितने घोटालों का पर्दाफाश हुआ है उसमें पता नहीं कितने राजनेताओं को और ब्यूरोक्रेटस को कड़ी सजा मिलेगी।

मोदी सरकार की उपलब्धियों के बारे में जब चर्चा होती है तो यह सभी मानते हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दो अभूतपूर्व निर्णय लिये। काले धन को समाप्त करने के ख्याल से नोटबंदी की। यह सच है कि नोटबंदी के शुरूआती दौर में आम जनता को बड़ी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा परन्तु देश की ज्यादातर जनता नोटबंदी के निर्णय के पक्ष में ही नजर आई।

क्योंिक इससे समाज में भेड़ की खाल पहनेे हुए जो भेिड़ये हैं उनके कारनामे ध्वस्त हो जाएंगे और काला धन धीरे-धीरे समाप्त हो जाएगा जिससे गरीबों और मध्यम वर्ग के लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। जिन लोगों ने चालाकी कर अपने मुलाजिमों के नाम से इस बीच काला धन जमा कराया था उन सभी पर आज कठोर कार्रवाई हो रही है।

आम जनता के लिये इससे अधिक खुशी की बात और क्या हो सकती है। विपक्ष के नेताओं ने यह आशंका प्रकट की थी कि नोटबंदी से भारत की अर्थव्यवस्था चरमरा जाएगी। परन्तु ऐसा कुछ नहीं हुआ। बल्कि सच कहा जाए तो भारत की अर्थव्यवस्था पहले से अधिक मजबूत हो गई। सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविन्द सुब्रमणियम ने कहा है कि नोटबंदी हर तरह से सफल रही।

नोटबंदी के कारण नकदी में कमी आई परन्तु आर्थिक गतिविधियों मे ंकोई कमी नहीं आई है। फसलों की बुआई में कोई कमी नहीं आई। उन्होंने कहा कि नोटबंदी का सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह रहा कि उम्मीद के विपरीत इस कदम से राजनीतिक तौर पर बहुत अधिक कामयाबी मिली। नकदी रहित लेन देन बढ़ा और कर संग्रह के मोर्चे पर भारी सफलता मिली।

इतिहास प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को नोटबंदी के अलावा उनके पाकिस्तानी सीमा में ‘सर्जिकल स्ट्ाइक’ के निर्णय के कारण भी हमेशा याद रखेगा। उन्होंने सेना को छूट दे दी थी। जो पाकिस्तान के गढ़ में घुस कर उनके आतंकवादी कैंपों को ध्वस्त कर वापस चले आए थे। सर्जिकल स्ट्ाइक की वाहवाही पूरे देश में ही नहीं सारे संसार में हुई और मोदी सरकार ने लोगो ंको बता दिया कि पाकिस्तान चाहे जो नापाक हरकतें कर ले भारत की सेना में इतनी ताकत है कि वह उसके गढ़ में घुसकर उसे तबाह कर देगी।

पाकिस्तानी सेना आए दिन घुसपैठियों को भारत में भेज रही है। यह एक तरह की ‘प्रोक्सी वार’ है जिसमें हमारे जवान तो पाकिस्तान की नापाक हरकतों के कारण शहीद हो ही रहे हैं। परन्तु हमारे बहादुर जवानों ने तोपों और आधुनिकतम हथियारों से पाकिस्तान के बंकरो को ध्वस्त कर दिया है। यह मानकर चलना होगा कि यह ‘अघोषित युद्व’ लम्बे अरसे तक चलेगा।

परन्तु मोदी सरकार ने पाकिस्तान को चने चबाने का जो निर्णय लिया है उसके साथ पूरा देश है। अभी अभी भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्ाइक-2 को अंजाम दिया है और दुबारा से पाकिस्तान के बंकरों को ध्वस्त कर दिया है। मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि यह रही है कि अंतरराष्ट्रीय क्षितिज में भारत को सम्मानजनक स्थान िदलाना।

कल तक भारत को एक कमजोर देश समझा जाता था वहीें मोदी सरकार ने भारत को एक अत्यन्त ही मजबूत देश में रूप में विश्व पटल पर प्रस्तुत कर दिया। यह सच है कि मोदी सरकार के लाख प्रयास के बावजूद भी पाकिस्तान और चीन रास्ते पर नहीं आ पाए हैं। यही नहीं, इन दोनों पड़ोसियों में एक नापाक गठबंधन भी हो गया है।

परन्तु पाकिस्तान और चीन को छोड़कर भारत के सारे पड़ोसी भारत के साथ हैं। अपने तीन वर्षों के शासनकाल में नरेन्द्र मोदी जहां जहां विदेशों में गए सब जगह उनका अभूतपूर्व स्वागत हुआ और हर जगह भारतीय मूल के लोगों ने बढ़ चढ़कर उनकी जय जयकार की। नरेन्द्र मोदी सरकार की एक बड़ी उपलब्धि यह रही कि गरीबों के कल्याण के लिये जो योजनाएं चल रही थी उनका लाभ अब तक बिचौिलये ले जाते थे।

अब नई सरकार ने यह प्रावधान कर दिया कि विभिन्न आर्थिक और सामाजिक परियोजनाओं के लाभ सीधे गरीबों के बैंक खातों में जा रहे हैं। आज तक गरीब महिलाएं कच्ची लकड़ी के धुंए में असीम कष्ट झेलती रही हैं। उन्होंने लाखों गरीब परिवारों को गैस और चूल्हे की सुविधा प्रदान की। यह एक अत्यन्त ही प्रशंसनीय कदम था।

नरेन्द्र मोदी सरकार की उपलब्धियों के बारे मे ंयदि चर्चा की जाए तो उसकी सूची बहुत बड़ी होगी। संक्षेप में, देश की आम जनता ने गत तीन वर्षों में राहत की संास ली है और ऐसी उम्मीद की जानी चाहिये कि अगले दो वर्ष में देश में और भी अनेक कल्याणकारी योजनाएं कार्यान्वित होंगी। यह सच है कि राेजगार के क्षेत्र में नरेन्द्र मोदी सरकार को उतनी सफलता नहीं मिल पाई है जितनी मिलनी चाहिये थी।

परन्तु अभी भी वक्त है। रोजगार में बढ़ोतरी के लिये केवल सरकारी योजनाएं ही कारगर नहीं हो सकती हैं। निजी क्षेत्र के उद्यमों को भी इसमें मुखर होना होगा। खुशी की बात है कि इन तीन वर्षों में विदेशी निवेशक तेजी से भारत में आ रहे हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि अगले दो वर्ष में देश की आर्थिक हालत पहले से ज्यादा मजबूत हो जएगी।

Next Story
Top