Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

संघर्ष विराम उल्लंघन का पाक को मुंहतोड़ जवाब देना जरूरी

पाकिस्तान की फौज भारतीय सैनिकों को नियमित अंतराल पर उकसा रही है।

संघर्ष विराम उल्लंघन का पाक को मुंहतोड़ जवाब देना जरूरी

समूचे विश्व में इतनी फजीहत के बावजूद पाकिस्तान.... की दुम की तरह सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। भारत की ओर से करारा जवाब मिलने के बावजूद पाक एलओसी और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर संघर्ष विराम का लगातार उल्लंघन कर रहा है।

पाकिस्तान की फौज भारतीय सैनिकों को नियमित अंतराल पर उकसा रही है। भारत भी जवाब देने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहा है।

पाक फौज ने ताजा-ताजा जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर पुंछ के बालाकोट और राजौरी के मंजाकोर्ट में सीजफायर का उल्लंघन किया है। इससे पहले पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में युद्ध विराम उल्लंघन की घटना में भी भारतीय जवानों ने करारा जवाब दिया है।

भारत की जवाबी कार्रवाई में चार पाक सैनिक ढेर भी हुए हैं। मंजाकोट इलाके में पाकिस्तान की गोलीबारी में भारतीय सेना के जवान लांसनायक मोहम्मद नसीर शहीद हो गए थे।

इसे भी पढ़ें: GST से टैक्स चोरी पर लगेगी लगाम, अगर CA करें ये काम

सोमवार को भी पाक सेना की गोलाबारी में भारतीय सेना का एक जवान मुद्दसर अहमद शहीद हो गया। इस गोलीबारी के कारण पुंछ सेक्टर में एक बच्ची की भी मौत हो गई है। पाक रेंजर ने भारतीय सेना के कई पोस्टों को निशाना बनाकर अंधाधुंध फायरिंग की है।

पाक रेंजर द्वारा सीमा पर लगातार किए जा रहे सीजफायर उल्लंघन पर कड़ा स्टैंड लेते हुए भारत ने पाकिस्तान से दो टूक कहा है कि जम्मू-कश्मीर से लगती सीमा पर किसी भी प्रकार की फायरिंग का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।

भारतीय डीजीएमओ ले. जनरल एके. भट्ट ने पाक के डीजीएमओ से साफ कर दिया कि भारतीय सेना एलओसी पर शांति को लेकर प्रतिबद्ध है। भारत को किसी भी प्रकार के सीजफायर उल्लंघन का करारा जवाब देने का अधिकार है। हकीकत यह है कि भारतीय सेना तभी फायरिंग करती है, जब हथियारबंद घुसपैठिए सीमा पार से घुसपैठ करने की कोशिश करते हैं।

घुसपैठ के कारण भारत में शांति और आंतरिक सुरक्षा को खतरा पहुंचता है। दरअसल पाकिस्तानी फौज की बेजा हरकतों पर ऐसे ही कठोर जवाब देने की जरूरत है। पाक के नापाक मंसूबों को विफल करने के लिए कश्मीर में भारतीय सेना लगातार लोहा ले रही है। यह किसी से छिपा नहीं है कि कश्मीर में पाकिस्तान तितरफा कार्रवाई को अंजाम दे रहा है।

इसे भी पढ़ें: ऐसे फाइल करें जीएसटी टैक्स, जानें इसके तकनीकी टर्म

पाक फौज संघर्ष विराम का उल्लंघन करती है, पाक की खुफिया एजेंसी आईएसआई प्रशिक्षित आतंकियों को सीमा पार से घुसपैठ करवाकर आतंकवादी हमले करवाती है और पाकिस्तान सरकार कश्मीर में मौजूद भाड़े के अलगाववादियों को मदद कर घाटी में अशांति फैलाती है। इन सबसे देश की सेना और जम्मू-कश्मीर की पुलिस सख्ती से निपटती है।

केंद्र सरकार ने स्पष्ट संदेश दिया है कि उसका मकसद घाटी से आतंकवाद का सफाया और कश्मीर में शांति बहाल करना है। पाकिस्तान को समझ लेना चाहिए कि सीजफायर तोड़ने और आतंकी हमलों से वह भारत का कुछ भी नहीं बिगाड़ सकता है। हाल में अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमले में भी पाक स्थित आतंकी गुट जैश व लश्कर का हाथ सामने आया है।

इसे भी पढ़ें: आतंकियों के पनाहगार पाकिस्तान पर एक्शन जरूरी

भारत में हिंदओं और मुस्लिमों के बीच दरार पैदा करने के मकसद से अमरनाथ यात्रियों पर किए आतंकी हमले के बावजूद अमरनाथ यात्रा पर जाने वालों के उत्साह में कोई कमी नहीं आई।

इससे पाक को संदेश मिल ही गया होगा कि उसका मकसद कामयाब नहीं होने वाला है। भारत पाक को आतंकवाद पर पहले ही वैश्विक स्तर पर अलग-थलग कर चुका है।

अमेरिका ने भी पाक को आतंकी ठिकानों को नष्ट करने के लिए कहा है। सीएम महबूबा मुफ्ती ने कहा ही है कि कश्मीर में हिंसा और आतंकी वारदातों में चीन का भी हाथ है। भारत को सीमा की रक्षा के लिए संघर्ष विराम उल्लंघन का मुंहतोड़ जवाब देना जरूरी है।

Next Story
Top