Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Independence Day 2018: स्वतंत्रता दिवस पर कविता, जानिए देश कैसे हुआ आजाद

आओ बच्चों! यह बतलाएं देश हुआ कैसे आजाद! कैसे-कैसे दिन देखे हैं! आज करें हम उनको याद।

Independence Day 2018: स्वतंत्रता दिवस पर कविता, जानिए देश कैसे हुआ आजाद

आओ बच्चों! यह बतलाएं

देश हुआ कैसे आजाद!

कैसे-कैसे दिन देखे हैं!

आज करें हम उनको याद।

हरा-भरा, जन-धन से पूरित,

अपना यह सुंदर बागीचा।

जिसे हमारे पूर्वजों ने

अपने कर्म-लहू से सींचा।

सोने की चिड़िया कहलाया,

सबकी इस पर नजर गड़ी थी।

गौरव-गरिमा से मदमाती,

भारत माता मान मढ़ी थी।

अंग्रेजों का मन ललचाया,

खोटी नीयत लेकर आए।

वे बन बैठे घर के मालिक,

हम अपने घर हुए पराए।

फिरंगियों का जोर-जुल्म था,

हम पर करते थे वे राज।

हम गुलाम थे उतर गया था,

भारत माता का सरताज।

कब तक सहते! इक दिन भड़का-

शोला सहसा आजादी का!

चमक उठी अनगिनत मशालें,

छूटा साहस उन्मादी का।

एक चाह थी, एक राह थी,

एक देश था, एक भाव था।

देश-भक्ति की बलिदेवी पर-

आजादी ही प्रबल चाव था।

इतनी-इतनी दी कुर्बानी!

तब पाई हमने आजादी।

कितनों ने काला-पानी में,

अपनी सारी उमर बिता दी।

यह आजादी रहे सुरक्षित!

यह जन-गण-मन-मंगल दायक।

भारतमाता की जय बोलें!

बनें देश के उज्ज्वल नायक।

Next Story
Top