Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

चिंतन: जवाब देकर अगस्ता का सच बताने का भी मौका

देशभर में जिज्ञासा है कि आखिर अगस्ता हेलीकॉप्टर डील में क्या हुआ था?

चिंतन: जवाब देकर अगस्ता का सच बताने का भी मौका

घपले और घाटालों के लिए कुख्यात यूपीए सरकार की सबसे बड़ी घटक रही कांग्रेस के 'कारनामे' उसके सत्ता में नहीं रहने के बाद भी देखने-सुनने को मिल ही रहे हैं। अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर डील पर इतालवी कोर्ट के फैसले में कांग्रेस के दिग्गज नेताओं का नाम आने से बैकफुट पर नजर आ रही पार्टी के अध्यक्ष सोनिया गांधी से सत्तासीन भाजपा ने सीधे सवाल पूछ कर सियासी आक्रमण कर दिया है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का सोनिया पर यह अब तक का सबसे कारारा हमला माना जा सकता है। शाह ने सोनिया पर दो दिनों में दो बार हमला किया। कांग्रेस अध्यक्ष के बयान कि 'मैं किसी से डरती नहीं' के जवाब में शाह ने कहा कि हमें संविधान का भी डर है और लोकलाज का भी। इससे कांग्रेस बचाव की मुद्रा में आने को मजबूर हो गई।

दूसरे दिन भाजपा अध्यक्ष ने सोनिया पर सवालों की बौछार करते हुए उन्हें जवाब देने की चुनौती दी। सभी छह सवाल अगस्ता डील पर फोकस्ड हैं। शाह ने पूछा कि जब टेंडर निकाला गया था तो ये प्रावधान था कि ओरिजिनल इक्विपमेंट मैन्यूफैक्चरर ही इसे भर सकते थे। अगस्ता वेंस्टलैंड ओरिजिनल मैन्यूफैक्चरर नहीं है। फिर उनको टेंडर कैसे मिला ? दूसरा सवाल पूछा कि जब हेलिकॉप्टर का सौदा हुआ तो फील्ड इवैलुएशन की शर्त को बदल दिया गया और कंपनी की प्रिमाइसिस में ट्रायल किया गया। ये अनुमति आखिर किसके कहने पर दी गई?
शाह ने तीसरा सवाल दागा कि जब ये सौदा हुआ तो इटली की मीडिया में घूस दिए जाने की चर्चा हुई थी, लेकिन ये साबित होने के बावजूद टेंडर को आगे बढ़ाया गया, टेंडर रोका क्यों नहीं गया? दरअसल, खबर आ रही है कि अगस्ता की पैरेंट कंपनी फिनमैक्कनिका ने इस डील की निगेटिव खबरों को दबाने के लिए भारत में मीडिया को मैनेज करने के वास्ते करीब 50 करोड़ रुपये खर्च किए। शाह का चौथा सवाल है कि अरेस्ट होने के बाद इस डील को होल्ड किया गया, इतनी देरी की वजह क्या थी? आखिर किसके इशारे पर अगस्ता वेस्टलैंड डील को रद करने में देरी की गई?
और आखिरी सवाल उठाया कि कांग्रेस का कहना है कि बैंक गारन्टी के सारे पैसे वापस आ गए हैं, जबकि इस का एक ही हिस्सा देश में आया है। कांग्रेस अध्यक्ष को इसका जवाब देना चाहिए। चूंकि ताजा सनसनीखेज खुलासा हुआ है कि ऑगस्टा वेस्टलैंड कंपनी ने 3600 करोड़ की डील के रद होने के बाद भारत को अब तक पैसे नहीं लौटाए हैं। तीन चॉपर्स के लिए कंपनी को 800 करोड़ रुपये दिए गए थे। भारत ने डाउनपमेंट किया था। इसके बदले कांपनी ने तीन हेलीकॉप्टर भारत भेजे थे, जो अभी भी पालम एयरबेस पर हैं। डील रद होने के बाद भारत ने इनका इस्तेमाल नहीं किया।
इसे अगस्ता को वापस ले जाने थे और भारत को उसके 800 करोड़ लौटाने थे, लेकिन अब तक ऐसा नहीं हुआ है। ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भाजपा अध्यक्ष के सवालों के जवाब के बहाने अगस्ता डील का सच देश के सामने रखना चाहिए है। इस समय देशभर में जिज्ञासा है कि आखिर अगस्ता हेलीकॉप्टर डील में क्या हुआ था? इटली की कोर्ट के फैसले के बाद उठ रहे सवालों को जवाब देकर ही शांत किया जा सकता है। पूरा देश जानता है कि यह डील कांग्रेस के समय में ही हुई थी, इसलिए जवाब देना भी कांग्रेस अध्यक्ष का ही बनता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top