Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

काले धन की वापसी की दिशा में एक और कदम

स्विस सरकार काला धन से संबंधित सूचनाएं साझा करना चाहती है।

काले धन की वापसी की दिशा में एक और कदम

नई दिल्‍ली. विदेशों में जमा बेहिसाब काला धन को वापस लाने की मुहिम रंग लाती दिख रही है। स्विट्जरलैंड की सरकार ने कहा है कि वह ऐसे भारतीयों की एक सूची तैयार कर रही है जिन पर संदेह हैकि उन्होंने जो पैसा स्विस बैंकों में जमा कर रखा है वह काला धन है। कुछ वर्षों से स्विट्जरलैंड पर भारत सहित कई देशों का दबाव था कि वह अपने यहां जमा हो रहे काले धन को लेकर पारदर्शिता बरते और सरकारों को कर चोरों को पकड़ने में मदद करे, लेकिन इस संबंध में कोई सकारात्मक परिणाम नहीं निकल रहा था।

अब स्विट्जरलैंड सरकार की ओर से उठाया गया यह सकारात्मक कदम है। काला धन देश में एक बड़ा मुद्दा रहा है। भाजपा ने अपने घोषण पत्र में इसका सच उजागर करने का वादा किया था। लिहाजा शपथ ग्रहण के तीन दिन के अंदर ही मोदी सरकार ने काले धन पर विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित कर साफ कर दिया कि काला धन विदेशों में छिपाकर रखने वालों को बख्शा नहीं जाएगा परंतु यह भी देखना जरूरी हैकि ये सूचनाएं भारत को कब और किस रूप में प्राप्त होती हैं।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को कहा कि सरकार को मीडिया में आई खबरों से जानकारी मिली है कि स्विस सरकार काला धन से संबंधित सूचनाएं साझा करना चाहती है, इसके लिए उन्होंने स्विस अथॉरिटी को पत्र लिखा है। स्विट्जरलैंड की सरकार के बदले रुख को देखते हुए उम्मीद की जा रही हैकि विदेशों में जमा काले धन को सामने लाने के प्रयासों को एक दिशा मिलेगी।हालांकि काले धन को उजागर करने के लिए अभी बहुत कुछ करने की जरूरत है।

स्विट्जरलैंड के अलावा और भी कई देश हैं जहां भारतीयों ने काला धन छिपा रखा है। उन देशों की अर्थव्यवस्था ही ऐसे काले धन पर टिकी है। उन देशों ने इसके लिए गोपनीयता के कानून बना रखे हैं जिसकी आड़ में वे भारत जैसे देशों को जानकारी देने से बच निकलते हैं। समय आ गया है कि वे देश इस तरह के पैसे को जमा करने का कारोबार अविलंब बंद करें। भारत में काले धन की एक समानांतर अर्थव्यवस्था चल रही है।

यह देश के विकास में बड़ी बाधक होने के साथ-साथ गरीबी और असमानता को भी बढ़ावा दे रहा है। इस पर जितना जल्दी हो सके अंकुश लगना चाहिए। हाल के दिनों में यह खबर आई किसिर्फ स्विट्जरलैंड के बैंकों में भारतीय खाताधारकों के लगभग 14000 करोड़ रुपये जमा हैं। स्विस बैंकों की केंद्रीय संस्था स्विस नेशनल बैंक द्वारा जारी किये गये 2013 के आंकड़ों के अनुसार, 2012 में लगभग 9500 करोड़ जमा थे।

उस हिसाब से यह 40 फीसदी की बढ़ोतरी है। वहीं स्विस बैंकों में पड़े विदेशी धन के लिहाज से भारत दुनिया में 58वें स्थान पर है। 2012 में यह 70वें स्थान पर था। पूरे तो नहीं पर इनमें से कुछ ऐसे भी खाते हैं जिनमें काला धन जमा है। ऐसे में भारतीयों द्वारा स्विस बैंकों में जमा धन में वृद्धि बहुत कुछ कह रही है। भारतीयों द्वारा विदेशों में जमा काले धन की राशि का कोई आधिकारिक आकलन नहीं है, पर इस संबंध में शोध करनेवाली संस्था ग्लोबल फाइनेंसियल इंटेग्रिटी के अनुसार हर दिन देश से 240 करोड़ रुपये बाहर भेजे जा रहे हैं। उम्मीद है कि प्राप्त होने वाली नईसूचना काले धन पर सरकार को किसी निर्णायक स्थिति में पहुंचने में मदद करेगी।

Next Story
Top