Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

WHO ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए 2 नई दवाओं की सिफारिश की

विशेषज्ञों के मुताबिक, कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (Corticosteroids) के साथ इस्तेमाल की जाने वाली गठिया की दवा बारिसिटिनिब कोरोना संक्रमित मरीजों (corona infected patients) के इलाज में कारगर साबित हुई है।

WHO ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए 2 नई दवाओं की सिफारिश की
X

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO- डब्ल्यूएचओ) ने शुक्रवार को कोरोना मरीजों के इलाज के लिए 2 नई दवाओं (drugs) की सिफारिश की है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोविड-19 (Covid-19) के लिए जिन दो नई दवाओं को मंजूरी दी है वो बारिसिटिनिब और कासिरिविमैब-इमदेविमाब (Baricitinib & casirivimab-imdevimab) हैं। डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों का कहना है कि रिसिटिनिब और कासिरिविमैब-इमदेविमाब का इस्तेमाल करके कम गंभीर या फिर गंभीर कोरोना मरीजों (Serious Corona Patients) का इलाज किया जा सकता है।

विशेषज्ञों के मुताबिक, कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (Corticosteroids) के साथ इस्तेमाल की जाने वाली गठिया की दवा बारिसिटिनिब कोरोना संक्रमित मरीजों (corona infected patients) के इलाज में कारगर साबित हुई है। डब्ल्यूएचओ (World Health Organization) ने दावा किया है कि ये दवा जीवित रहने में सुधार करती है। साथ ये दवा वेंटिलेशन (ventilation) की जरूरत को भी कम करती है।

विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि बारिसिटिनिब (baricitinib) का अन्य गठिया दवाओं (gout drugs) के समान प्रभाव है। जिन्हें इंटरल्यूकिन-6 इन्हिबिटर्स (inhibitors) कहा जाता है। इसलिए, जब दोनों दवाएं उपलब्ध हों तो इनमें से एक का इस्तेमाल करने का सुझाव दिया गया है। कहा है कि एक ही वक्त में दोनों दवाओं का इस्तेमाल करने की सिफारिश नहीं की जाती है।

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल बीएमजे (British Medical Journal BMJ) में अपनी सिफारिश में डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों (experts) ने कहा कि कम या फिर गंभीर कोरोना संक्रमण मरीजों के इलाज के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के साथ इस्तेमाल की जाने वाली गठिया की दवा बारिसिटिनिब से जीवित रहने की दर बेहतर हुई और वेंटिलेटर की जरूरत कम पड़ने लगी है।

इस दौरान विशेषज्ञों ने गैर गंभीर कोरोना संक्रमित मरीजों (non-severe corona infected patients) के लिए सिंथेटिक एंटीबॉडी ट्रीटमेंट सोट्रोविमैब (Synthetic Antibody Treatment Sotrovimab) की भी सिफारिश की है। यह उन संक्रमितों के लिए प्रभावी है जोकि अस्पताल में भर्ती होने अधिक जोखिम वाले हैं।

Next Story