Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Doctors Strike Live: दिल्ली एम्स के डॉक्टरों ने ममता सरकार को दिया 48 घंटे का अल्टीमेटम

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने डॉक्टरों को पत्र लिखकर हड़ताल को समाप्त करने की अपील की लेकिन डॉक्टरों ने अपनी मांगों की नई लिस्ट जारी कर दी। बंगाल के डॉक्टरों की हड़ताल को देशभर का के डॉक्टरों का समर्थन मिल रहा है। वहीं देश का राजधानी दिल्ली में आज एम्स और सफदरजंग अस्पताल समेत 18 अस्पतालों में डॉक्टर हड़ताल पर रहेंगे।

Doctors Strike Live: दिल्ली एम्स के डॉक्टरों ने ममता सरकार को दिया 48 घंटे का अल्टीमेटम

पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों की हड़ताल का कोई समाधान नहीं निकला है। यहां तक की सीएम ममता बनर्जी के अपील करने के बाद भी डॉक्टर्स की स्ट्राइक का हल नहीं निकल पाया है। आज राज्य में डॉक्टरों की हड़ताल का पांचवा दिन है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने डॉक्टरों को पत्र लिखकर हड़ताल को समाप्त करने की अपील की लेकिन डॉक्टरों ने अपनी मांगों की नई लिस्ट जारी कर दी। बंगाल के डॉक्टरों की हड़ताल को देशभर का के डॉक्टरों का समर्थन मिल रहा है। वहीं देश का राजधानी दिल्ली में आज एम्स और सफदरजंग अस्पताल समेत 18 अस्पतालों में डॉक्टर हड़ताल पर रहेंगे।

लाइव अपडेट..

- दिल्ली में राम मनोहर लोहिया अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक वीके तिवारी ने कहा कि रेजिडेंट डॉक्टर आज हड़ताल पर हैं। उन्होंने केवल ओपीडी और वार्डों में काम निलंबित कर दिया है, आपातकालीन सेवाएं सामान्य रूप से चल रही हैं। हम पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा की घटना की निंदा करते हैं।

- पश्चिंम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा को लेकर एनआरएस मेडिकल एंड हॉस्पिटल के जूनियर डॉक्टरों ने पांचवें दिन भी अपनी हड़ताल जारी रखी।

- आरडीए अध्यक्ष अमरिंदर सिंह मल्ही ने बताया कि सभी रेजिडेंट डॉक्टर काम पर वापस आ गए हैं लेकिन हम काले बिल्ले, पट्टियां और हेलमेट पहनकर सांकेतिक विरोध जारी रखेंगे। अगर हालत बिगड़े तो हम 17 जून से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे।

- पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों की चल रही हड़ताल को लेकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का प्रतिनिधिमंडल केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से मिला।

- दिल्ली एम्स के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने पश्चिम बंगाल सरकार को हड़ताली डॉक्टरों की मांगों को पूरा करने के लिए 48 घंटे का एक अल्टीमेटम जारी किया है। सरकार विफल रहती है तो हम एम्स में अनिश्चितकालीन हड़ताल का सहारा लेने के लिए मजबूर होंगे।

- जम्मू-कश्मीर डॉक्टर्स कोऑरडीनेशन कमेटी के मुताबिक जम्मू-कश्मीर और लेह रीजन के सभी अस्पतालों में शनिवार यानी 15 जून सुबह 10 बजे से 12 बजे तक दो घंटे की सांकेतिक हड़ताल रहेगी।

- दिल्ली के एम्स, सफदरजंग अस्पताल, डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन, यूनाइटेड रेजिडेंट एंड डॉक्टर्स एसोसिशन ऑफ इंडिया (यूआरडीए) और फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (एफओआरडीए) ने डॉक्टरों को सुरक्षा देने की मांग का समर्थन किया है। डॉक्टरों के इन संगठनों ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के साथ हुई हिंसा को लेकर ज्ञापन भी दिया है।

- शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने डॉक्टरों से हड़ताल को समाप्त करने की अपील की। साथ ही उन्होंने सीएम ममता बनर्जी से उनके प्रदेश में डॉक्टरों के खिलाफ अल्टीमेटम वापस लेने का आग्रह किया।

आंदोलनकारी डॉक्टरों ने बातचीत के ममता के प्रस्ताव को ठुकराया

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को आंदोलनकारी जूनियर डॉक्टरों को राज्य सचिवालय में बैठक के लिये बुलाया जिसे डॉक्टरों ने यह कहते हुए ठुकरा दिया कि यह उनकी एकता को तोड़ने की एक चाल है। ममता ने चार दिनों से सभी राजकीय मेडिकल कॉलेजों और अस्पतालों में सामान्य सेवाओं को बाधित करने वाले गतिरोध का हल खोजने के लिए बैठक बुलाई थी।

वरिष्ठ चिकित्सक सुकुमार मुखर्जी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को चिकित्सकों के नहीं आने पर उन्हें शनिवार शाम पांच बजे राज्य सचिवालय नाबन्ना में मिलने का समय दिया। मुखर्जी, आंदोलन में शामिल नहीं हुए अन्य वरिष्ठ चिकित्सकों के साथ ममता से मिलने गए और इस समस्या का हल निकालने के लिए सचिवालय में मुख्यमंत्री के साथ दो घंटे तक बैठक की।

इसके बाद ममता ने मेडिकल एजुकेशन के निदेशक प्रदीप मित्रा तीन-चार जूनियर डॉक्टरों को बैठक के लिये सचिवालय में बुलाने के लिये कहा। जूनियर डॉक्टरों के संयुक्त मंच के एक प्रवक्ता ने कहा कि यह हमारी एकता और आंदोलन को तोड़ने की चाल है। हम राज्य सचिवालय में किसी बैठक में शिरकत नहीं करेंगे।

मुख्यमंत्री को यहां (एनआरएस मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल) आना होगा और कल एसएसकेएम अस्पताल के दौरे के दौरान उन्होंने हमें जिस तरह से संबोधित किया, उसके लिये बिना शर्त माफी मांगनी होगी। ममता ने बृहस्पतिवार को एसएसकेएम अस्पताल का दौरा करते वक्त कहा था कि बाहरी लोग मेडिकल कॉलेजों में गतिरोध पैदा करने के लिये यहां घुस आए हैं और यह आंदोनल माकपा तथा भाजपा का षडयंत्र है। जूनियर डॉक्टर एक रोगी के परिजन द्वारा चिकित्सक से मारपीट के विरोध में आंदोलन कर रहे हैं।

Share it
Top