Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Uri Attack 3rd Anniversary : सर्जिकल स्ट्राइक से ऐसे लिया उरी का बदला, दुनिया ने देखा 'नया भारत'

Uri Attack 3rd Anniversary, आतंकवादी (Terrorist) पूरी तैयारी के साथ उरी कैंप (Uri Camp) में घुसे और उन्होंने केवल तीन मिनट में 17 हैंड ग्रेनेड फेंके। लगभग छह घंटे चली मुठभेड़ में भारतीय सेना (Indian Army) के जवानों ने चारों आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया था।

Uri Attack 3rd Anniversary : सर्जिकल स्ट्राइक से ऐसे लिया उरी का बदला, दुनिया ने देखा Uri Attack 3rd Anniversary Surgical Strike PM Modi new India

जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) के चार आतंकवादियों ने 18 सितंबर 2016 की सुबह तड़के जम्मू-कश्मीर के उरी कैंप (Uri Terror Attack) में भारतीय सेना (Indian Army) के ब्रिगेड हेडक्वॉटर्स पर हमला कर दिया था। इसमे 19 जवानों की शहादत हुई थी और कई घायल हुए थे।

आतंकवादी पूरी तैयारी के साथ कैंप में घुसे और उन्होंने केवल तीन मिनट में 17 हैंड ग्रेनेड फेंके। लगभग छह घंटे चली मुठभेड़ में भारतीय सेना के जवानों ने चारों आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया था। इसके दस दिन बाद ही भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक कर उरी हमले का बदला ले लिया था।

लोगों की कांप उठी रूह

आज से तीन साल पहले यानी 18 सितंबर 2016 में हुआ उरी कैंप में आतंकी हमले को शायद ही कोई भूल सकता है। जिस समय पूरा देश सो रहा था उस समय आतंकियों ने एक बड़े हमले को अंजाम दिया था।

जैसे लोग सुबह उठे और मालूम हुआ कि आतंकियों ने नियंत्रण रेखा के पास भारतीय सेना के ब्रिगेड हेडक्वॉटर्स पर किसी बड़े हमले को अंजाम दिया है तो लोगों की रूह कांप उठी और दिल जोरो से धड़कने लगा था। हलांकि की सेना के जवानों ने जैश-ए-मोहम्मद के चारों आतंकियों को मार गिराया था।

सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक से ऐसे लिया उरी का बदला

भारतीय सेना ने उरी हमले के ठीक 10 दिन बाद ही उरी हमला के बदला ले लिया था। भारत में पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए 150 कमांडोज की मदद से सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया।

भारतीय सेना के बहादुर जवानों ने 28-29 सितंबर की आधी रात आतंकियों के खिलाफ दुशमन की सीमा में 3 किलोमीटर अंदर घुसकर आतंकियों के ठिकानों को तबाह कर दिया।

कमांडोज ने बिना मौका गंवाए आतंकियों पर ग्रेनेड फेंके। साथ ही ताबड़तोड़ फायरिंग भी की। हमले में सेना के जवानों ने 2 पाकिस्तानी सैनिकों समेत 40 आतंकियों को मार गिराया था। इसके साथ दुनिया ने भारत का नया रुप भी देख लिया था।

कमांडोज तवोर और एम-4 जैसी राइफलों, ग्रेनेड्स, स्मोक ग्रेनेड्स से लैस थे। उनके पास अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर, रात में देखने के लिए नाइट विजन डिवाइसेज और हेलमेट माउंटेड कैमरा भी थे।

Next Story
Share it
Top