Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लॉकडाउन में राहत के 2 करोड़ लोग वापस नौकरी पर पहुंचे, रोजगार दर में हुई बढ़ोतरी

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) की रिपोर्ट के मुताबिक सरकार द्वारा लगाए गए लॉकडाउन को आसान करने के बाद मई में लगभग 2 करोड़ लोग नौकरी पर वापस लौटे हैं।

लॉकडाउन में राहत के 2 करोड़ लोग वापस नौकरी पर पहुंचे, रोजगार दर में हुई बढ़ोतरी
X

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) की रिपोर्ट के मुताबिक सरकार द्वारा लगाए गए लॉकडाउन को आसान करने के बाद मई में लगभग 2 करोड़ लोग नौकरी पर वापस लौटे हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत की रोजगार दर मई में 2 प्रतिशत बढ़कर 29 प्रतिशत पर पहुंच गई, जो अप्रैल में 27 प्रतिशत थी। सीएमआईई के अनुमान के मुताबिक 25 मार्च को शुरू हुए लॉकडाउन की वजह से देश के करीब 12.20 करोड़ लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ा है।

बचे 5 गुना लोगों को फिर नौकरी पर लाना बड़ी चुनौती

सीएमआईई ने कहा कि 2 करोड़ लोगों की नौकरी पर वापसी से रोजगार दर में 2 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। साथ ही, अप्रैल में 12.20 करोड़ लोगों की नौकरी जाने का आंकड़ा मई में घटकर 10.20 करोड़ पर आ गया। यानी 2 करोड़ लोगों की नौकरी पर वापसी हुई है, लेकिन बचे हुए 5 गुना लोगों को फिर से नौकरी पर लाना बड़ी चुनौती है।

मई में श्रम भागीदारी दर बढ़ी

सीएमआईई के अनुसार, मई में सप्ताह के बाद श्रम भागीदारी दर (एलपीआई) बढ़ रही है, 17 मई को खत्म हुए सप्ताह में ये 38.8 प्रतिशत रही। इससे पता चलता है कि अप्रैल में तकनीकी रूप से श्रम बाजार को छोड़ चुकी काफी बड़ी संख्या वापस आ रही है। एलपीआई मार्च में 41.9 प्रतिशत से गिरकर अप्रैल में 35.6 प्रतिशत हो गया था। वहीं, मई में ये जमीन पर आ गया था।

वापस लौटर रहे श्रमिक

सीएमआईई के उपभोक्ता पिरामिड घरेलू सर्वेक्षण से पता चलता है कि अप्रैल में नियोजित संख्या में 12.20 करोड़ की कमी होने के चलते काम करने के इच्छुक लोगों की संख्या सक्रिय रूप से नहीं थी। रिपोर्ट के मुताबिक ये संभावित बेरोजगार हैं, लेकिन तकनीकी रूप से बेरोजगार नहीं माने जाते हैं। चूंकि ये लोग काम करने के इच्छुक हैं, ऐसे में यदि रोजगार की स्थिति में मामूली सुधार होता है तब वे आसानी से श्रम बल में शामिल हो सकते हैं और रोजगार की तलाश कर सकते हैं।

ज्यादातर फोन पर ही इंटरव्यू दे रहे

सीएमआईई के अनुसार, मई के साप्ताहिक अनुमान बताते हैं कि श्रमिकों ने इच्छुक पलायन किया है, लेकिन हतोत्साहित कार्यकर्ता नौकरियों की तलाश में वापस आ रहे हैं। जो अच्छी खबर है। साप्ताहिक डेटा से यह भी पता चलता है कि श्रम बाजारों में लोग रोजगार खोजने में सफल रहे हैं। लॉकडाउन के वजह से ज्यादातर लोग फोन पर ही इंटरव्यू दे रहे हैं।

Next Story