Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

देश में इन जगहों पर ले सकेंगे 'कुल्हड़' वाली चाय का आनंद, केंद्रीय मंत्री ने बनाया ये प्लान

पर्यावरण के अनुकूल (इको-फ्रेंडली) 'कुल्हड़' में चाय और कॉफी अब लोग आनंद ले सकेंगे। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि उन्होंने अपने कैबिनेट सहकर्मी पीयूष गोयल से 100 रेलवे स्टेशनों पर कुल्हड़ को अनिवार्य बनाने का आग्रह किया है।

देश में इन जगहों पर ले सकेंगे

पर्यावरण के अनुकूल (इको-फ्रेंडली) 'कुल्हड़' में चाय और कॉफी अब लोग आनंद ले सकेंगे। बड़े पैमाने पर रेलवे स्टेशनों, बस टर्मिनलों, हवाई अड्डों और मॉल में चाय और कॉफी के बचने के लिए 'कुल्हड़' का इस्तेमाल किया जाएगा।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि उन्होंने अपने कैबिनेट सहकर्मी पीयूष गोयल से 100 रेलवे स्टेशनों पर कुल्हड़ को अनिवार्य बनाने का आग्रह किया है। मैंने यह भी सुझाव दिया है कि बस डिपो, हवाई अड्डों और राज्य परिवहन में लगे चाय के स्टॉलों पर कुल्हड़ों का उपयोग अनिवार्य करना चाहिए।


नितिन गडकरी ने कहा है कि हम मॉल को कुल्हड़ चाय के स्टॉल लगाने के लिए भी प्रोत्साहित करेंगे। वर्तमान में, वाराणसी और रायबरेली स्टेशनों पर ही पकी मिट्टी से बने कुल्हड़ का इस्तेमाल होता है यहां पर कुल्हड़ में चाय, कॉफी दी जाती है। नीतिन गडकरी ने कहा है कि इस कदम से स्थानीय कुम्हारों को बाजार मिलेगा। इससे हमें कागज और प्लास्टिक के उपयोग को समाप्त करने और पर्यावरण को संरक्षण में भी मदद करेगा।

गडकरी ने खादी ग्रामोद्योग आयोग को मांग बढ़ने की स्थिति में व्यापक स्तर पर कुल्हड़ के उत्पादन के लिए आवश्यक उपकरण उपलब्ध कराने को भी कहा है। मंत्री ने कहा कि उन्होंने खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) को आदेश दिया है कि वे बड़े पैमाने पर कुल्हड़ के उत्पादन के लिए जरूरू उपकरणों की व्यवस्था करें।


KVIC के चेयरमेन ने कहा कि पिछले साल कुल्हड़ बनाने के लिए कुम्हारों को 10,000 इलेक्ट्रिक चार किए थे और इस साल 25,000 इलेक्ट्रिक चाक बांटने का लक्ष्य तय किया है। कुम्हार सशक्तिकरण योजना के तहत, सरकार अपनी उत्पादकता बढ़ाने के लिए कुम्हारों को बिजली के पहिये वितरित कर रही है। एमएसएमई मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि कुल्हड़ के अनिवार्य उपयोग से ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक रोजगार पैदा होगा। जिससे प्लास्टिक के कपों का इस्तेमाल कम हो जाएगा।

Next Story
Top