Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चीन से तनाव के बीच पूर्वी लद्दाख में भारत ने तैनात किए टैंक और इंफेंट्री कॉम्बेट व्हीकल, जानें क्या है वजह

तनाव के बीच भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख के चुमार-डेमचोक क्षेत्र में एलएसी के पास टैंक और इंफेंट्री कॉम्बेट व्हीकल को तैनात कर दिया है।

चीन से तनाव के बीच पूर्वी लद्दाख में भारत ने तैनात किए टैंक और इंफेंट्री कॉम्बेट व्हीकल, जानें क्या है वजह
X

भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में गतिरोध धमने का नाम नहीं ले रहा है। तनाव के बीच भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख के चुमार-डेमचोक क्षेत्र में एलएसी के पास टैंक और इंफेंट्री कॉम्बेट व्हीकल को तैनात कर दिया है। बीते 5 महीने से एलएसी पर दोनों देशों की सेनाएं तैनात हैं।

इन टैंकों को एलएसी पर किया तैनात

एएनआई के मुताबिक, पूर्वी लद्दाख में चुमार-डेमचोक इलाके में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास भारतीय सेना के टैंक और पैदल सेना के लड़ाकू वाहनों को तैनात कर दिया है। इसकी तस्वीरें भी सामने आई हैं। सेना ने बीएमपी-2 इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल्स, टी-90 और टी-72 टैंकों को भी एलएसी पर तैनात कर दिया है।

माइनस डिग्री में भी चीन को मिलेगा जवाब

इन टैंकों को तैनात करना का मुख्य उद्देश्य मौसम है। क्योंकि आने वाले दिनों में लद्दाख के कई इलाके बर्फ से ढक जाएंगे। जिसकी वजह से कई तरह की समस्याएं होंगी। इसी को देखते हुए भारतीय सेना ने पहले से ही तैयारी करते हुए एलएसी के पास माइनस 40 डिग्री सेल्सियस तक तापमान पर काम करने के लिए इन टैंकों और वाहनों की तैनाती की है।

मौसम भी बड़ा दुश्मन

पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में सबसे कड़क सर्दियां पड़ती है। जहां रात में तापमान सामान्य से 35 डिग्री अधिक होता है। ऐसे में सेना के द फायर एंड फ्यूरी कॉर्प्स दल को तैनात किया जाता है। सर्दी के मौसम में इन इलाकों में मैकेनाइज्ड बलों को तैनात किया गया है। टैंक, पैदल सेना के लड़ाकू वाहनों और भारी बंदूकों को रखा जाता है। ताकी अगर सर्द मौसम में कोई हमला करता है तो उसे मुंहतोड़ जवाब दिया जा सके।

भारतीय सेना के मेजर जनरल अरविंद कपूर ने जानकारी दी है कि चालक दल और उपकरण की तत्परता सुनिश्चित करने के लिए हमने सेना और मशीन दोनों की व्यवस्थाएं की हैं। किसी भी मौसम की स्थिति और किसी भी इलाके में काम करने का अनुभव है। पूर्वी लद्दाख से लेकर चीनी बलों के कब्जे वाले तिब्बत के इलाकों तक इन टैंकों को इस्तेमाल किया जा सकता है। हमारे जवानों ठंड के मौसम के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। अभी हाल ही में चीन ने बयान दिया था भारत ठंड के मौसम में कैसे रुकेगा। जिसके बाद अब सेना ने अभी से तैयारी शुरू कर दी है।

Next Story