Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus: सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी, मांगा राहत पैकेज

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है।

संसद के मानसून सत्र में राहुल और सोनिया गांधी नहीं होंगे शामिल, सामने आया ये कारण
X
Sonia Gandhi

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। सोनिया गांधी ने चिट्ठी में पीएम मोदी से सूक्ष्म, लघु और छोटे उद्योगों के लिए राहत पैकेज की मांग की है। इससे पहले भी सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर कोरोना से निपटने के सुझाव दिए थे। साथ ही सरकारी खर्चे को लेकर भी सुझाव दिए थे।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अर्थव्यवस्था के नुकसान और लोग नौकरी जाने के बाद अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से राहत पैकेज की मांग की है। सोनिया गांधी ने सूक्ष्म, लघु और छोटे उद्योगों को लेकर चिंता जाहिर करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सुरक्षा राहत पैकेज मांगा है। सोनिया गांधी ने पीएम से 1 करोड़ रुपए के वेतन सुरक्षा पैकेज की घोषणा करने की मांग की है। वहीं लोन गारंटी कोष बनाने और अन्य अहम कदमों को उठाने की मांग की है ताकि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाया जा सके।

सोनिया गांधी ने पीएम को लिखे पत्र में कहा कि अगर सरकार सही समय पर सही कदम उठाती है तो ऐसे में एमएसएमई क्षेत्र को बड़ी राहत मिलेगी देश में 11 करोड़ से अधिक लोगों को रोजगार दे दिया जाता है। एमएसएमई क्षेत्र को रोजाना करीब 30 हजार करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ रहा है।

सोनिया गांधी ने खत में लिखा कि जहां एक तरफ व्यापारियों को राहत पैकेज दिए जाएगा। तो वहीं दूसरी तरफ जिन लोगों की नौकरियां सुरक्षित की जाए और आर्थिक नुकसान को खत्म किए जाने के लिए कड़े कदम सरकार को उठाने होंगे। इसके तहत 100000 करोड रुपए का लोन गारंटी कोष स्थापित किया जाए। ताकि व्यापार क्षेत्र में राहत मिल सके।

इसके अलावा सोनिया गांधी ने पीएम मोदी से अपील की है कि जिन लोगों ने कर्ज लिया है, उनकी ईएमआई को 3 महीने के लिए टाला जाए। इससे पहले भी सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को खत लिखा था। जिसमें उन्होंने कोरोना से निपटने के सुझाव दिए थे और इसके साथ ही अर्थव्यवस्था को किस तरह से पटरी पर लाया जाए। इसके लिए भी सरकार को सुझाव दिए। जहां उन्होंने कहा था कि सरकारी खर्चे को कम किया जाए और वहीं सांसदों के वेतन कटौती के प्रस्ताव को भी माना था।

Next Story