Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अयोध्या में भक्तों के लिए बनाए गए नियम, रामलला के दर्शन के लिए ये होगी पूरी प्रक्रिया

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में विराजे रामलला के दर्शन के लिए नए नियम बनाए गए हैं। भक्तों को रामलला दर्शन करने से पहले ये प्रक्रिया पूरी करनी होगी।

अयोध्या में भक्तों के लिए बनाए गए नियम, रामलला के दर्शन के लिए ये होगी पूरी प्रक्रिया
X
अयोध्या में भक्तों के लिए बनाए गए नियम

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में विराजे रामलला के दर्शन के लिए नए नियम बनाए गए हैं। राम लला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने बताया कि इन नियमों के तहत ही राम भक्त अपने रामलाल का दर्शन कर सकेंगे।

नियमों के तहत अगर आप मंदिर में अपने नाम से आरती करवाना चाहते हैं या भोग चढ़ाना चाहते हैं तो एक दिन पहले इसकी जानकारी अधिकारियों और ट्रस्ट को देनी होगी। इसके बाद जानकारी देने के एक दिन बाद भक्त को चढ़ावा का समय दिया जाएगा।

यहां के सुरक्षाकर्मी भक्त को बैरीकेडिंग तक लेकर जाएंगे। इसके बाद गेट खोल कर रामलला के दर्शन के लिए जाने अंदर जाने दिया जाएगा।

आरती से पहले ट्रस्ट से लेनी होगी अनुमति

इसके अलावा अगर कोई भक्त मंदिर में अपने नाम से आरती करवाना चाहता है तो वे निशुल्क अपने नाम से आरती करवा सकता है। राम लला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने बताया कि आरती के लिए रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से कोई शुल्क लागू नहीं किया गया है।

इसके लिए भक्त अपने नाम से आरती कराने और आरती में सम्मिलित होने के लिए उनसे भी संपर्क कर सकते हैं। लेकिन इससे पहले मंदिर की बैरिकेडिंग को पार करने के लिए और मंदिर तक पहुंचने के लिए अधिकारियों और ट्रस्ट से अनुमति लेना जरूरी है।

साथ ही विशेष पूजा या भव्य आरती कराने के लिए भी पहले ट्रस्ट की तरफ से अनुमति लेनी होगी।

रामलला की पांच अनोखी आरती

रामलला को खुश करने के लिए पांच अनोखी आरती की जाती है। इसमें से सुबह को मंगला आरती के साथ श्रृंगार आरती, दोपहर को भोग आरती, शाम को संध्या आरती और आखिर में शयन आरती। इनमें से भी भक्त किसी भी आरती को अपने नाम से करवा सकते हैं।

इसके लिए भी किसी तरह को कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा।

भक्तों के दान रजिस्टर में होंगे नाम दर्ज

वहीं, भक्त अपनी खुशी से कितना भी दान कर सकता है। जहां पहले भोग चढ़ाने के लिए श्रद्धालुओं को पॉलिथीन पैक में मिश्री का प्रसाद चढ़ाने की अनुमति , वहीं अब भक्तों को अपनी इच्छानुसार भोग प्रसाद चढ़ाने की अनुमति दी गई है।

भक्त अपनी खुशी से जो भी कुछ दान करेगा, उसका नाम रजिस्टर में दर्ज किया जाएगा।

Priyanka Kumari

Priyanka Kumari

Jr. Sub Editor


Next Story