Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जानें IL&FS घोटाला में कैसे फंसे राज ठाकरे, मुंबई के कई इलाकों में धारा 144 लागू

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना चीफ और बाल ठाकरे के भतीजे राज ठाकरे को प्रवर्तन निदेशालय ने आईएल एंड एफएस घोटाला मामले में जांच के लिए आज अपने ऑफिस बुलाया है। ईडी ने कोहिनूर कंपनी में IL&FS द्वारा 450 करोड़ रूपये के निवेश और ऋण से जुड़ी अनियमियतताओं की जांच के मामले में नोटिस जारी किया था। जो मुंबई के दादर में कोहिनूर स्क्वायर टॉवर का निर्माण कर रही है।

जानें IL&FS घोटाला में कैसे फंसे राज ठाकरे, मुंबई के कई इलाकों में धारा 144 लागू
X

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना चीफ और बाल ठाकरे के भतीजे राज ठाकरे को प्रवर्तन निदेशालय ने आईएल एंड एफएस घोटाला मामले में जांच के लिए आज अपने ऑफिस बुलाया है। ईडी ने कोहिनूर कंपनी में IL&FS द्वारा 450 करोड़ रूपये के निवेश और ऋण से जुड़ी अनियमियतताओं की जांच के मामले में नोटिस जारी किया था। जो मुंबई के दादर में कोहिनूर स्क्वायर टॉवर का निर्माण कर रही है।

परिवार समेत ईडी ऑफिस पहुंचे ठाकरे

राज ठाकरे ईडी के ऑफिस में पूछताछ हो रही है। उनके साथ उनका परिवार भी पहुंचा इसके अलावा एमएनएस नेता बाला नंदगांवकर भी मौजूद हैं। ठाकरे को ईडी का नोटिस जारी होने के बाद मनसे कार्यकर्ताओं को प्रदर्शन जारी है।

इन तीन लोगों ने बनाई थी कंपनी

इस कंपनी को शिवसेना नेता, महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री मनोहर जोशी के बेटे अनमेश जोशी और राज ठाकरे द्वारा बनाया गया था। जिसमें मनी लॉन्ड्रिंग मामले की ईडी जांच कर रही है।

ईडी ऑफिस के बाहर समेत कई जिलों में धारा 144

राज ठाकरे को ईडी द्वारा तलब करने के बाद से ही मनसे कार्यकर्ता जोश में हैं। मनसे कार्यकर्ताओं ने मुंबई, ठाणे और आस-पास के जिलों में बंद का ऐलान किाय था। लेकिन राज ठाकरे ने इस बंद को वापस ले लिया। फिलहाल, पुलिस ने दक्षिण मुंबई में ईडी ऑफिस के आस-पास धारा 144 लागू कर दी है। वहीं ऑफिस के बाहर भारी पुलिस बल को भी तैनात किया गया है। ईडी जाने वाले रास्तों पर बैरिकेडिंग की गई है। पुलिस ने एमएनएस नेताओं को नोटिस भी जारी किए गए हैं।

क्या है IL&FS घोटाला

कोहिनूर सीटीएनएल को जोशी, ठाकरे और एक करीबी सहयोगी द्वारा रियल एस्टेट बिल्डर की टीम ने बनाया। जिसमें कोहिनूर मिल को 421 करोड़ रुपये में खरीदा गया। वहीं कोहिनूर सीटीएनएल में आईएल एंड एफएस ने 2003 में 225 करोड़ रुपये का निवेश किया। जिसके बाद साल 2008 में उन्होंने अपने शेयर कंपनी को 90 करोड़ रुपये में बेद दिए। जिससे 135 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। इसके बाद ठाकरे को टीम से बाहर कर दिया गया। फिर आईएल एंड एफएस ने कोहिनूर कंपनी में 135 करोड़ रुपये का लोन लिया। लेकिन वो चुका नहीं सके।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top