Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मुस्लिम देशों ने पाक को दी सलाह, फालतू बयानबाजी के बजाए बैकडोर से करे बातचीत

मुस्लिम देशों (Muslim Nations) ने इमरान खान के सामने भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव (Tensions Between India Pak) कम करने के लिए मध्यस्थता (Mediate) का प्रस्ताव रखा है। साथ ही भारत के खिलाफ बयानबाजी बंद करने के लिए दो टूक कहा है।

मुस्लिम देशों ने जताई भारत-पाक के बीच मध्यस्थता की इच्छा, इमरान को दिया बैकडोर बातचीत व फालतू बयानबाजी बंद करने का सुझावMuslim Nations Willing to Mediate between India and Pakistan, suggested Imran Backdoor talks and to stop Anti India statements

पाकिस्तान को मुस्लिम देशों ने भारत के खिलाफ बयान बाजी बंद करने की सलाह दी है। कश्मीर तनाव को कम करने के लिए बैकडोर बातचीत शुरू करने के लिए कहा है। इसके अलावा जम्मू-कश्मीर तनाव कम करने के लिए मध्यस्थता करने की भी पेशकश की है।

कश्मीर मुद्दे को लेकर अंतर्राष्ट्रीय मंच पर कई बार मूंह की खाने के बाद पाकिस्तान किसी देश की सलाह लेने के लिए भी तैयार नहीं है। कश्मीर मुद्दे को लेकर खड़ी हुई परिस्थितियों के बाद दोनों देशों के बीच किसी भी तरह की बातचीत की अब कोई उम्मीद नहीं है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ने भारत से बैकडोर बातचीत करने के लिए साफ इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि कश्मीर मुद्दे के बाद भारत से बिना शर्त के पाकिस्तान अब कोई भी बात नहीं करेगा।

इमरान को भारत के साथ अनऔपचारिक बातचीत की सलाह

जानकारी के मुताबिक साऊदी अरब के उप विदेश मंत्री आदिल अल जुबैर और यूएई के विेदेश मंत्री अब्दुल्ला बिन अल नाहयन अपने देश व अन्य मुस्लिम देशों की ओर से संदेश लेकर इस्लामाबाद दौरे पर भारत-पाक तनाव के संबंध में संदेश लेकर आए थे। उन्होंने इमरान खान को भारत के साथ अनऔपचारिक बातचीत करने की सलाह दी। साऊदी एवं यूएई के नेताओं द्वारा भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव कम करने में भूमिका निभाने की भी इच्छा जताई गई। उन्होंने पाकिस्तान को भारते से पर्दे के पीछे बातचीत करने का सुझाव दिया।

बंद करें फालतू बयानबाजी

साथ ही उन्होंने इमरान खान से यह भी कहा है कि वह भारत व प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ बयानबाजी बंद करें। लेकिन पाकिस्तान ने उनके प्रस्तावों को अस्वीकार करते हुए कह दिया है कि भारत के साथ बिना शर्त बातचीत नहीं होगी। जब तक भारत पाकिस्तान की शर्तें नहीं मानेगा तब तक भारत के साथ पारंपरिक कूटनीति नहीं होगी।

Next Story
Share it
Top