Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना वायरस के मरीज होम्योपैथिक इलाज से हो रहे ठीक, पहली बार तीन मरीज हुए डिस्चार्ज

मध्यप्रदेश में पहली बार कोरोना से संक्रमित तीन मरीज होम्योपैथिक इलाज से स्वस्थ होकर अपने घर पहुंचे। राजधानी के शासकीय होम्योपैथिक अस्पताल में भारत सरकार की अनुमति के बाद गाइडलाइन के अनुसार तीन कोरोना मरीजों का इलाज होम्योपैथिक पद्धति से किया गया। करीब 14 दिन अस्पताल में भर्ती रहने के बाद तीनों मरीज रविवार को कोरोना से पूरी तरह स्वस्थ हो गए।

कोरोना वायरस के मरीज होम्योपैथिक इलाज से हो रहे ठीक, पहली बार तीन मरीज हुए डिस्चार्ज
X
वुहान के लैब में मिले चमगादड़ों में 3 तरह के वायरस(फाइल फोटो)

मध्यप्रदेश में पहली बार कोरोना से संक्रमित तीन मरीज होम्योपैथिक इलाज से स्वस्थ होकर अपने घर पहुंचे। राजधानी के शासकीय होम्योपैथिक अस्पताल में भारत सरकार की अनुमति के बाद गाइडलाइन के अनुसार तीन कोरोना मरीजों का इलाज होम्योपैथिक पद्धति से किया गया। करीब 14 दिन अस्पताल में भर्ती रहने के बाद तीनों मरीज रविवार को कोरोना से पूरी तरह स्वस्थ हो गए।

प्रदेश में एलोपैथी, आयुर्वेद के बाद अब कोरोना मरीजों का इलाज होम्योपैथी पद्धति से भी हो रहा है। केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद पहली बार कोरोना के पॉजीटिव मरीजों का होम्योपैथी पद्धति से इलाज करने की शुरूआत की गई थी। राजधानी के शासकीय होम्योपैथी चिकित्सा महाविद्यालय में 14 मई को तीन कोरोना समान्य लक्षण वाले (एसिम्टोमेटिक) मरीजों को भर्ती किया गया था।

डॉक्टरों के मुताबिक कोरोना के कम लक्षण लक्षणों वाले मरीजों को प्रचलित दवा हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन के अलावा लक्षणों के आधार पर होम्योपैथी दवाएं देकर उनकी 14 दिन तक निगरानी की गई। इस दौरान मरीज को पेट दर्द, दस्त या और भी जो परेशानी हुई उसका इलाज भी होम्योपैथिक पद्धति से ही किया गया। होम्योपैथी में इलाज लक्षणों के आधार पर किया जाता है इसलिए मरीज से लक्षणों की पूरी जानकारी जुटाने के बाद इलाज किया। अब वह मरीज कोरोना से पूरी तरह स्वस्थ होकर रविवार को अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया।

- इनका कहना

शासन से मिले निदेर्शों के आधार पर तीन कोरोना एसिम्टोमेटिक पेशेंट्स का होम्योपैथिक ट्रीटमेंट किया गया है। मौजूदा ड्रग हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन के अलावा होम्योपैथी की अन्य दवाओं से इलाज कर अब मरीज कोरोना मुक्त हो गए है। रविवार को तीनों मरीज की रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया है। यह खुशी की बात है कि होम्योपैथिक से भी कोरोना का इलाज किया जा रहा है।

Next Story