logo
Breaking

Exit Poll 2019: जानें चुनाव के दौरान कौन सा पोल होता है सबसे ज्यादा सटीक और भरोसेमंद

लोकसभा चुनाव 2019 के चुनावी माहौल के बीच हमेशा सर्वे, ओपिनियन पोल, एग्जिट पोल, प्री पोल और पोस्ट पोल काफी सुर्खियों में रहते हैं। 19 मई की शाम 7वें चरण का मतदान खत्म हो जाएगा जिसके बाद सभी न्यूज चैनल और डिजिटल मीडिया पर एग्जिट पोल आ जाएंगे। नतीजों से पहले इन पोल से एक सटीक अनुमान लगाया जाता है कि दल की सरकार बनने जा रही है।

Exit Poll 2019: जानें चुनाव के दौरान कौन सा पोल होता है सबसे ज्यादा सटीक और भरोसेमंद

लोकसभा चुनाव 2019 (Loksabha Elections 2019) के चुनावी माहौल के बीच हमेशा सर्वे, ओपिनियन पोल, एग्जिट पोल, प्री पोल और पोस्ट पोल काफी सुर्खियों में रहते हैं। 19 मई की शाम 7वें चरण (Seven Phase) का मतदान खत्म हो जाएगा जिसके बाद सभी न्यूज चैनल और डिजिटल मीडिया पर एग्जिट पोल आ जाएंगे। नतीजों से पहले इन पोल से एक सटीक अनुमान लगाया जाता है कि दल की सरकार बनने जा रही है। आइए जानते हैं कौन सा पोल होता है सबसे ज्यादा सटीक और भरोसेमंद...

सर्वे (Survey)

चुनावी माहौल के काफी महीनों पहले या समय समय लोगों से पूछे जाने वाली राय को सर्वे कहा जाता है। चुनाव से पहले होने वाले सर्वे में सत्ता परिवर्तन की लहर नजर आ जाती है।

ओपिनियन पोल (Opion poll)

चुनाव की तारीखों की घोषणा के बाद दिखाए जाने वाले सर्वे को ओपिनियन पोल कहते हैं। इसमें सीधे जनता से पूछा जाता है कि वो किसको वोट देंगे या किसी सरकार बनाएंगे। ओपिनियन पोल एग्जिट पोल से अलग होता है। कुछ एजेंसियां लोगों की बीच जाकर सर्वे करती हैं उसी के आधार पर ओपिनियन निकाला जाता है। इसमें गांव, शहर जाकर लोगों के उनकी राय पूछी जाती है।

प्री पोल (Pre Poll)

प्री पोल हमेशा चुनावी माहौल के बीच किए जाते हैं जिसमें पूछा जाता है कि अगर आज मतदान हुआ तो किसकी पार्टी जीतेगी। उन्हें ही प्री पोल कहा जाता है। सोशल मीडिया पर पोल शेयर कर लोगों के भी पूछा जाता है। न्यूज पेपर और न्यूज चैनल पर भी प्री पोल को बताया जाता है।

एग्जिट पोल (Exit Poll)

एग्जिट पोल हमेशा वोटिंग खत्म होने या अंतिम चरण के बाद ही आते हैं। इसमें वोट देकर आए वोटरों से पूछा जाता है कि उन्होंने किसको वोट किया है। उसकी के आधार पर आंकड़ों को इक्ट्ठ किया जाता है। वोटिंग वाले दिन वोटरों से उनकी राय पूछते हैं।

पोस्ट पोल (Post Poll)

एग्जिट पोल और पोस्ट पोल में थोड़ा का फर्क होता है। पोल्ट पोल में सर्वे एजेंसियों मतदान वाले दिन नहीं बल्कि एक दिन बाद और अगले तीन दिनों तक जनता से उनकी राय जानती है। जैसे कि छठें चरण का मतदान 12 मई को खत्म हुआ तो अगले दो या तीन दिन तक लोगों से पूछा जाता है कि उन्होंने किसको और किसकी सरकार को वोट किया है या फिर उनकी राय ली जाती है। पोस्ट पोल के परिणाम ज्यादा सटीक होते हैं। क्योंकि इसमें आम लोगों से फॉर्म भरवाकर उनसे उनकी राय पूछी जाती है जो गुप्त होती है।

यहां समझिए कौन सा होता सबसे सटीक और भरोसेमंद पोल

सर्वे, ओपिनियन पोल, एग्जिट पोल, प्री पोल और पोस्ट पोल में सबसे ज्यादा सटीक और भरोसेमंद पोस्ट पोल होता है। इस पोल में सर्वे एजेंसियों कर्मचारी घर घर, गली गली जाकर लोगों से उनकी राय पूछते हैं। इसके लिए वो आम आदमी को एक फॉर्म भरने के लिए दे दिया करते हैं जिसमें कुछ सवाल होते हैं। इस फॉर्म को एक सीलबंद डिब्बे में रख जाता है। इसलिए हम कह सकते हैं कि पोस्ट पोल सबसे सटीक और भरोसेमंद पोल होते हैं।

Share it
Top