Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अनंतनाग मुठभेड़ : शहीद केतन शर्मा का पार्थिव शरीर पहुंचा उनके गृहनगर, देखकर हर आंख हुई नम

अनंतनाग मुठभेड़ में शहीद हुए मेजर केतन शर्मा का पार्थिव शरीर उनके गृहनगर मेरठ पहुंच चुका है। सेना के काफीले में शहीद के शव के चारों ओर उनकी एक झलक देखने को लोग बेताब थे। हर किसी की आंखें नम थी इसके बावजूद सभी के मुंह से एक ही आवाज निकल रही थी, मेजर केतन जय हिंद। साथ ही भारत माता की जय के नारों से आकाश गूंज उठा।

Rajnath Singh Pays Tribute To Major Ketan SharmaRajnath Singh Pays Tribute To Major Ketan Sharma

अनंतनाग मुठभेड़ में शहीद हुए मेजर केतन शर्मा का पार्थिव शरीर उनके गृहनगर मेरठ पहुंच चुका है। सेना के काफीले में शहीद के शव के चारों ओर उनकी एक झलक देखने को लोग बेताब थे। हर किसी की आंखें नम थी इसके बावजूद सभी के मुंह से एक ही आवाज निकल रही थी, मेजर केतन जय हिंद। साथ ही भारत माता की जय के नारों से आकाश गूंज उठा। वहीं घरवालों का शव देखकर बुरा हाल हो गया, पत्नी, मां और पिता की आंखों में मानों सागर की लहरें आ गई हो।

केतन 26 मई को एक महिने की छुट्टी बिताकर घाटी लौटे थे। शहादत की खबर से उनके घर में मातम पसर गया है। माता-पिता को ढांढ़स बंधाने के लिए सेना के कई अधिकारी उनके घर गए। मेजर केतन का राष्ट्रीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दिया गया। इस दौरान केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और सेनाध्यक्ष विपीन रावत ने पुष्प अर्पित करके उन्हें श्रद्धाजंलि दी। साथ ही उन्होंने और सेना के अधिकारियों ने सलामी दी।

बता दें कि जम्मू कश्मीर के अनंतनाग जिले में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच सोमवार को हुई मुठभेड़ में मेरठ के रहने वाले मेजर केतन शर्मा शहीद हो गए। मुठभेड़ में एक अन्य अधिकारी और दो जवान घायल हो गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के अचबल में हुई मुठभेड़ में मेजर केतन शर्मा शहीद हो गए।

तीन साल की बेटी के सिर से पिता का साया उठा

मेजर केतन शर्मा की 5 साल पहले ही शादी हुई थी। घर में उनके माता-पिता, पत्नी इरा व उनकी तीन साल की एक बेटी काइरा है। पूरे घर में मातम पसरा हुआ है। वहीं तीन साल की बेटी को इस बात का कोई असर नहीं है। मेजर साल 2012 में IMA देहरादून से सेना में लेफ्टिनेंट के पद से भर्ती हुए थे। इसके बाद वे पहली बार पुणे में पोस्ट हुए। दो साल के बाद ही सेना ने उन्हें जम्मू कश्मीर भेज दिया।

सेना के मेजर से पूछा मां ने बेटा कहां है?

सेना के चॉपर से जब शहीद केतन शर्मा का पार्थिव शव उनके घर पहुंचा तो माहौल एकदम गमजदा हो गया। किसी का आंसूं थम नहीं रहे थे। वहीं सेना के एक मेजर से केतन की मां ने पूछा मेरा बेटा कहां है? मां के पूछते ही अधिकारियों की आंखें भी नम हो गईं। सेना के अधिकारी उनकी मां को ढांढ़स बंधा रहे हैं। वहीं सेना के आला अधिकारी उनके घर सुबह से ही पहुंचे हैं।

मेजर की पत्नी मायके थीं, सुबह पहुंची घर

मेजर की पत्नी और उनकी बेटी मायके गईं थीं। केतन के शहीद होने की सूचना उन्हें रात में मिली, लेकिन परिजनों ने रात में आने से मना कर दिया। आज सुबह जब वो अपने ससुराल पहुंची तो उनका रो-रोकर बुरा हाल हो गया है। वहीं मासूम बेटी गुमसुम सबकुछ देख रही है। उसे इसकी कोई खबर नहीं।

Share it
Top