Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोविड से निपटने के लिए अब मैदान में उतरेगी सेना! , स्थानीय प्रशासनों की ऐसे करेगी मदद

देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सेना से की वार्ता। कोरोना को लेकर देश के राज्य से लेकर जिले स्तर पर प्रशासनों की मदद को लेकर हुई बात।

कोविड से निपटने के लिए अब मैदान में उतरेगी सेना! , स्थानीय प्रशासनों की ऐसे करेगी मदद
X

राजनाथ सिंह, फोटो एएनआई

देश भर में कोरोना वायरस का संक्रमण एक बार फिर से फैल रहा है। इस पर अंकुश लगाने में कई राज्य असफल हो गये है। (Curfew) कर्फ्यू से लेकर लॉकडाउन तक लगाये जा रहे हैं। इसके बावजूद बढ़ रहे मामलों को रोकने के लिए अब (Rajnath Singh) राजनाथ सिंह ने सेना को मैदान में उतारने का फैसला किया है। रक्षा मंत्री ने सेना से कहा है कि वह मरीजों के लिए अतिरिक्त सुविधाएं देने सहित इस महामारी से निपटने में राज्य प्रशासनों का सहयोग करें।

खबरों के अनुसार, देश के रक्षा मंत्री (Defence Minister) की तरफ से सेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे को इस बात से अवगत कराने के बाद यह फैसला किया गया है कि सेना अपने चिकित्सा सुविधा स्थलों पर आम लोगों का उपचार करने के बारे में विचार करेगी। इसके साथ ही राज्यों और जिलों के प्रशासनों को अतिरिक्त सहयोग भी देगी। सिंह ने जनरल नरवणे से कहा है कि विभिन्न राज्यों में सेना की इकाइयां राज्यों में जरूरत को समझने के लिए वहां के प्रशासनों के साथ संपर्क में रहें। इसके साथ ही यह निर्णय भी लिया गया है कि किसी राज्य में सबसे वरिष्ठ सैन्य अधिकारी वहां के मुख्यमंत्री के संपर्क में रहेंगे। ताकि यह पता किया जा सके कि जरूरतें क्या हैं और उपचार की सुविधा की पेशकश करने सहित प्रक्रिया को कैसे आगे बढ़ाया जा सकता है।

वहीं रिपोर्ट के अनुसार, रक्षा मंत्री अपने मंत्रालय और सेना के तीनों अंगों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ संपर्क में बने हुए हैं। उन्होंने इस बार पर भी जोर दिया कि देश में कोरोना महामारी से निपटने में कैसे असैन्य प्रशासन की मदद की जा सकती है। साथ ही वायुसेना और नौसेना के नेतृत्व से कह दिया गया है कि वे हालात से निपटने के लिए अपनी तैयारी रखें। उधर, रक्षा सचिव अजय कुमार ने उन सभी संभावित क्षेत्रों की समीक्षा की है। जिनमें शस्त्र बल स्थानीय प्रशासनों की मदद कर सकते हैं। इस समीक्षा के बाद रक्षा मंत्रालय ने छावनी बोर्डों द्वारा चलाए जा रहे 67 अस्पतालों से निर्देशित किया है कि वे छावनी क्षेत्र में रहने वालों के साथ ही बाहर के लोगों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराएंगे।

और पढ़ें
Next Story