Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Chandrayaan 2: ISRO का 'विक्रम लैंडर' से संपर्क का अंतिम पड़ाव, जानें क्यों करना होगा 14 दिनों का इंतजार

Chandrayaan 2/ भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन (ISRO) अपने सबसे खास मिशन चंद्रयान 2 (Chandrayaan 2) को अभी भी पूरा सफल करने की कोशिशों में जुटा हुआ है। लैंडर विक्रम (Vikram Lander) से दोबारा संपर्क साधने की लगातार कोशिश हो रहे हैं। लेकिन आज रात को यह मिशन 14 दिनों के लिए रूक जाएगा।

Chandrayaan 2: ISRO का Chandrayaan 2 ISRO may be Contact Lander Vikrama last day Nasa

Chandrayaan 2/ भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन (ISRO) अपने सबसे खास मिशन चंद्रयान 2 (Chandrayaan 2) को अभी भी पूरा सफल करने की कोशिशों में जुटा हुआ है। लैंडर विक्रम (Vikram Lander) से दोबारा संपर्क साधने की लगातार कोशिश हो रहे हैं। लेकिन आज 20 सितंबर को इसरो का मिशन लैंडर (Mission Lander) शाम होते ही थम जाएगा।

14 दिनों का करना होगा इंतजार

आज देर रात इस अभियान का सबसे महत्वपूर्ण पल एक लूनर डे खत्म हो जाएगा। जिसके बाद दोबारा वापस आने के लिए 14 दिनों का लंबा सफर तय करना होगा। इसके साथ ही लैंडर से दोबारा संपर्क होने की संभावनाएं भी लगभग खत्म हो जाएंगी।


लैंडर चंद्रमा के एक हिस्से पर स्थित है। जहां 14 दिनों की रात होगी और साथ ही वहां रात ठंडी होगी। यहां तापमान शून्य से 200 डिग्री सेल्सियस तक कम हो जाएगा।

इसरो लैंडर से कोशिश के अंतिम पड़ाव पर

बता दें कि बीती 7 सितंबर को इसरो ने चांद की सतह पर विक्रम लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग करने में असफल रहा था। जिसके दौरान उसने पृथ्वी से संपर्क खो दिया। इसके बाद लैंडर की लोकेशन का पता लगाया गया। ऑर्बिटर ने लैंडर की लोकेशन को 24 घंटों के अंदर पता लगा लिया था। ऑर्बिटर ने 17 सितंबर को लैंडर विक्रम की कई सारी तस्वीरें भेजी थीं।


पिछले कुछ दिनों में अंतरिक्ष एजेंसी ने लैंडर से संपर्क के लिए कई मैसेज भेजे हैं इतना ही नहीं अमेरिकी की स्पेस एजेंसी नासा ने भी लैंडर को संकेत भेजे हैं। नासा ने भी कहा था कि ऑर्बिटर के कैमरे ने विक्रम की कई सारी तस्वीरें खिंची हैं। लैंडर के साथ संपर्क स्थापित करने की संभावना की समय सीमा 21 सितंबर है। जो आज आधी रात से से खत्म हो जाएगा। चांद पर दिन और रात 14-14 दिनों की होती है। पृथ्वी के 14 दिन और चांद का एक दिन बराबर होता है।

Next Story
Top