Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Arun Jaitley Death News: मोदी सरकार में अरुण जेटली ने इन अहम योजनाओं पर लगाई थी मुहर

भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janta Party) के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली (Arun Jaitley) का शनिवार दिल्ली के एम्स (AIIMS) अस्पताल में निधन हो गया। जेटली का निधन 66 साल की उम्र में हुआ है वो 9 अगस्त को सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद एम्स अस्पताल में भर्ती हुए थे।

Arun Jaitley Death News: मोदी सरकार में अरुण जेटली ने इन अहम योजनाओं पर लगाई थी मुहर

भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janta Party) के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली (Arun Jaitley) का शनिवार दिल्ली के एम्स (AIIMS) अस्पताल में निधन हो गया। जेटली का निधन 66 साल की उम्र में हुआ है वो 9 अगस्त को सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद एम्स अस्पताल में भर्ती हुए थे। जिसे बाद उन्हें अस्पताल के कार्डियो-न्यूरो सेंटर में रखा गया था। अरुण जेटली ने अटल और मोदी युग दोनों में ही अपनी अहम भूमिका निभाई। साल 2014 में मोदी सरकार बनने के पहले कार्यकाल के दौरान उन्हें वित्त मंत्री रहते हुए कई अहम फैसले लिए और कई योजनाओं पर अपनी मुहर भी लगाई। उन्होंने माल और सेवा कर, नोटबंदी और आम जनता के लिए कई योजनाओं पर मुहर भी लगाई। आइए जानते हैं उनके कार्यकाल में लिए गए फैसलों के बारे में...

1. जनधन योजना (Jan Dhan Yojana)-


मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान जनधन योजना को 2014 में सबसे पहले लागू किया गया। इसके तहत हर आम आदमी को बैंक में जनधन योजना के तहत जीरो बैलेंस पर अकाउंट खोलने के लिए प्रेरित किया। कहते हैं कि इस योजना को लागू करने के पीछे अरुण जेटली का बहुत बड़ा योगदान था।

2. आयुष्मान भारत (Ayushman Bharat)-


देश में स्वास्थ्य का लाभ सभी लोगों को मिल सके। आयुष्मान भारत योजना मोदी सरकार की सबसे बड़ी योजना है जिसका श्रेय जेटली को जाता है। जेटली ने 2018-2019 के यूनियन बटज में इस योजना का ऐलान कर दिया था। इस योजना का मकसत मीडिल और गरीब परिवार को 5 लाख रुपये तक के स्वास्थ्य बीमा देना था ताकि आम आदमी अपना इलाज करवा सके।

3. मुद्रा योजना-


कहते हैं कि यह योजना पीएम मोदी का ट्रीम प्रोजेक्ट था। ताकि देश की महिलाओं और आम लोगों को स्वरोजगार की तरफ मोड़ने के लिए आसानी से लोन दिया जा सके। इसके लिए सरकार ने अप्रैल 2015 में शुरू किया और आगे बढ़ाने के लिए अरुण जेटली ने काम किया। दूसरे कार्यकाल में प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी ने वापसी की और 2019 में पूर्ण बजट में इनकम टैक्स सोप्स, हाउसिंग स्कीम, पेंशन स्कीम, आधार-संबंधी संशोधन, डिजिटल पेमेंट को आगे बढ़ाने के काम कर रही है। इस योजना के जरिए देश की 73 फीसदी महिलाओं को लोन मिला।

4. सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana)-


देश के गरीब परिवार और बेटी के भविष्य को संवारने के लिए अरुण जेटली ने 2015 में इस योजना की शुरुआत की थी। इस योजना के तहत कोई भी शख्स अपनी बेटी के भविष्य के लिए 10 साल की कम उम्र की बच्ची के लिे निवेश कर सकता है। इस योजना के लिए आपको 250 रुपये जमाकर अकाउंट खिलवाना होगा। जब भी इस योजना की बात की जाएगी तो अरुण जेटली को हमेशा ही याद किया जाएगा।

5. जीएसटी (GST)-


गुड्स एंड सर्विसिज़ टैक्स या वस्तु एवं सेवा कर इस योजना को लागू करवाने में अरुण जेटली की अहम भूमिका रही। एक देश में एक कर योजना को लागू किया गया और व्यापारियों को कई बार देने वाले कर से मुक्त कर दिया गया। इस योजना को लागू करने में कोई सरकार हिम्मत नहीं दिखा सकी।

6. नोटबंदी का फैसला (Demonetisation) -


मोदी सरकार का सबसे पहला और कड़ा फैसला नोटबंदी, अरुण जेटली के कार्यकाल के दौरान ही लिया गया। जब पीएम मोदी ने 8 नवंबर 2016 को रात आठ बजे 500 और 1000 के पुराने नोटों को बंद करने का ऐलान किया और नए नोटों की घोषणआ कर दी। इस पूरी योजना को गुप्त रखा गया और कहते हैं कि रिजर्व बैंक ने योजना को लागू करने से महज 4 घंटे पहले अपनी मंजूरी दी थी। इस योजना में भी अरुण जेटली की मुख्य भूमिका थी।

Next Story
Share it
Top