Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बच्चों को ऐसे बताएं ''गुड टच-बैड टच'', बच सकती है मासूम की जान

साइकोलॉजिस्ट ने स्पेशल टॉक में कहा कि ये बातें आपस में बात करने के लिए बहुत सरल हैं लेकिन इसे अमल करना उतना ही कठिन है। बच्चों के दिमाग में इन बातों को घर करवाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ेगी।

इसके लिए बहुत जरूरी है कि आप अपने बच्चे के साथ खूब टाइम स्पेंट करें और उससे धीरे-धीरे इस तरह की बातें शुरू करें। आप प्यार से समझाएंगी तो बच्चों को समझ आ जाएगा और उनके साथ कोई बड़ा हादसा होने से बच जाएगा। इसके अलावा पार्क में और होम ट्यूशन के समय अपने बच्चे के साथ जरूर रहें।

Next Story