Logo
election banner
हरियाणा में मौसम में आए बदलाव के कारण तापमान में फिर वृद्धि दर्ज की गई। आसमान में बादल छाने क कारण 2 मार्च को बारिश की संभावना है। जबकि किसानों को बरसात के साथ ओलावृष्टि की चिंता सता रही है।

Haryana: मौसम में बार-बार बदलाव आ रहा है। कुछ दिनों से मौसम साफ रहने के कारण तापमान में एक बार फिर वृद्धि दर्ज की गई। दोपहर के समय तेज धूप के कारण ठंड का असर गायब रहा। सुबह और शाम के समय ही सर्दी अपनी उपस्थिति दर्ज कराने लगी है। मौसम में एक बार फिर बदलाव आने की संभावना है। आसमान में बादल छाने के बाद दो मार्च को बरसात की संभावना जताई जा रही है। बारिश के साथ ओलावृष्टि की आशंका किसानों की चिंता बढ़ा रही है।

गत वर्ष की अपेक्षा नहीं बढ़ा तापमान

गत वर्ष की तुलना में तापमान में अभी तक ज्यादा वृद्धि नहीं हुई है। मार्च माह में बीते साल तापमान शुरू में ही 33 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था, जबकि इस बार 30 डिग्री तक भी नहीं पहुंचा। वीरवार को अधिकतम तापमान 3.9 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि के साथ 28.5 डिग्री पर पहुंचा। तेज हवाओं के चलने से मौसम में ठंड का असर बरकरार है। दोपहर के समय तेज धूप के कारण मौसम गर्म बना रहा, लेकिन शाम के समय फिर मौसम ठंडा हो गया। दिन भर मौसम साफ बना रहा। मौसम विभाग के अनुसार शुक्रवार को एक बार फिर आसमान में गहरे बादल छा सकते हैं। शनिवार को कहीं हल्की, तो कहीं तेज बरसात हो सकती है। पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता के चलते अगले दो-तीन दिन तक मौसम में बदलाव देखने को मिल सकता है।

ओलावृष्टि से नुकसान की आशंका

गत वर्ष इस सीजन में हुई ओलावृष्टि ने फसलों को काफी नुकसान पहुंचाया था। इस बार किसानों ने अगेती सरसों की कटाई का कार्य तेज किया हुआ है। अगेती फसल अनाज मंडियों में पहुंचनी शुरू हो गई है। इस समय अगर ओलावृष्टि होती है, तो इससे किसानों को भारी नुकसान हो सकता है। ओालवृष्टि गेहूं की फसल को ज्यादा नुकसान पहुंचा सकती है। तेज हवाओं के साथ बरसात भी गेहूं के लिए सही नहीं होगी। इससे गेहूं की फसल जमीन पर बिछ जाएगी, जिससे पकाव सही नहीं होगा।

jindal steel Ad
5379487