Logo
election banner
हरियाणा के शंभू बॉर्डर पर दिल्ली कूच के लिए डटे किसानों को 17 दिन पूरे हो गए। किसान नेता शुभकरण सिंह की 3 मार्च को अंतिम अरदास रखी गई है। ऐसे में तब तक दिल्ली कूच को टाला गया है। इसके बाद ही दिल्ली कूच को लेकर निर्णय लिया जाएगा।

Ambala: शंभू बॉर्डर पर दिल्ली कूच के लिए डटे किसानों को 17 दिन पूरे हो गए। वीरवार को भी दिल्ली कूच को लेकर किसान नेताओं में कोई रणनीति नहीं बन पाई। युवा किसान शुभकरण सिंह के अंतिम संस्कार की वजह से संयुक्त किसान मोर्चा के संयोजक सरवण सिंह पंधेर व जगजीत सिंह डल्लेवाल देर शाम तक शंभू बॉर्डर नहीं पहुंच पाए। सभी किसान जत्थेबंदियों से जुडे़ नेता उनके आने का इंतजार कर रहे थे। उधर किसान नेता जगजीत सिंह डल्लेवाल ने कहा कि युवा किसान शुभकरण सिंह की आत्मिक शांति के लिए 3 मार्च को अरदास रखी गई है, यानि इससे पहले दिल्ली कूच को लेकर कोई फैसला होने की उम्मीद नहीं है।

केस दर्ज होने के बाद किया अंतिम संस्कार

21 फरवरी को खनौरी बॉर्डर पर दिल्ली कूच को लेकर किसानों पर पुलिस ने फायरिंग की थी। इस दौरान युवा किसान शुभकरण सिंह की गोली लगने के कारण मौत हो गई। किसानों ने पुलिस जवानों पर शुभकरण की हत्या का आरोप लगाते हुए केस दर्ज करने की मांग की। उनका आरोप था कि हरियाणा पुलिस ने पंजाब की सीमा में घुसकर किसानों पर हमला किया था। किसानों ने हरियाणा पुलिस के खिलाफ हत्या का केस दर्ज होने के साथ ही शुभकरण के परिवार को एक करोड़ का मुआवजा व परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की थी। हालांकि पंजाब सरकार ने मुआवजे व नौकरी की मांग को तुरंत मंजूर कर लिया था। मगर केस दर्ज करने का मामला लटका हुआ था। बीते रोज पंजाब पुलिस ने शुभकरण की हत्या के आरोप में हरियाणा पुलिस के खिलाफ केस दर्ज किया। इसके बाद ही शुभकरण के शव का पोस्टमार्टम हुआ।

जारी रहेगा किसानों का आंदोलन

किसान नेता सरवण सिह पंधेर ने कहा कि अभी 3 मार्च को युवा किसान शुभकरण की आत्मिक शांति के लिए अरदास रखी गई है। इसी वजह से अभी दिल्ली कूच पर कोई बात नहीं हुई है। आंदोलन अभी खत्म नहीं होगा। किसानों की एमएसपी पर खरीद की गारंटी का कानून, डॉ. स्वामीनाथन कमीशन के फैसले के हिसाब से फसलों के दाम और किसान-मजदूरों की कर्ज माफी तक आंदोलन जारी रहेगा। किसान नेता जगजीत डल्लेवाल ने कहा कि शुभकरण सरकार के जुल्म का मुकाबला करते हुए जान दे गया है। सरकार ने किसानों के दबाव में शुभकरण को शहीद करार दिया। उन्होंने सभी किसान जत्थेबंदियों से अरदास में पुरजोर तरीके से हिस्सेदारी करने का आग्रह किया।

पासपोर्ट-वीजा रद्द करवाने की तैयारी

हरियाणा पुलिस ने आंदोलन की आड़ में उपद्रव मचाने वालों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने ऐसे लोगों के पासपोर्ट-वीजा रद्द करवाने की बात कही है। इसके लिए हरियाणा पुलिस ने शंभू बॉर्डर पर लगे कैमरों और ड्रोन से उपद्रवियों की फोटो निकाली हैं। इन तस्वीरों को पहचान के बाद भारतीय एंबेसी में भेजा जा रहा है। इनके पासपोर्ट-वीजा रद्द करने के साथ इनकी पहचान भी कराई जा रही है। पुलिस के मुताबिक उपद्रवियों की फोटो पासपोर्ट ऑफिस और केंद्रीय गृह मंत्रालय को भी भेज रही है। डीएसपी जोगिंदर शर्मा ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि किसान आंदोलन की आड़ में उपद्रव करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।

अब महिला किसानों की संख्या बढ़ेगी

शंभू बॉर्डर पर आंदोलन को मजबूत करने के लिए अब किसान जत्थेबंदियां महिला किसानों की संख्या बढ़ाने की रणनीति पर काम कर रहा है। इसके लिए आसपास के गांवों के किसानों की ड्यूटियां लगाई जा रही हैं। किसानों ने साफ कहा कि वे हर रोज अपने गांवों की महिला किसानों को एकजुट कर बॉर्डर पर लेकर पहुंचेंगे। वीरवार को आंदोलन में महिला किसानों की संख्या काफी नजर आई। भारतीय किसान यूनियन शहीद भगत सिंह के अध्यक्ष अमरजीत सिंह मोहड़ी ने कहा कि आंदोलन पहले दिन से ही मजबूत है। केंद्र सरकार उनके सब्र का इम्तिहान ले रही है। वे पीछे हटने वाले नहीं है। जब तक सरकार अपने फैसले को लागू नहीं करती, वे दिल्ली कूच को लेकर निरंतर आगे बढ़ेंगे।

jindal steel Ad
5379487