Logo
election banner
रेत निकालने का काम फिर से शुरू करने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर ज्ञापन सौंपा है।

कुश अग्रवाल - पलारी। अभी तक आपने सुना होगा कि, अवैध रेत घाट को लेकर आसपास गांव के ग्रामीण ही हमेशा विरोध करते नजर आते हैं। लेकिन छत्तीसगढ़ के बलौदाबाजार जिले में एक गांव ऐसा है जहां ग्रामीण चाहते हैं कि, उनके गांव में रेत निकालने का काम फिर से शुरू हो, जिससे लोगों को रोजगार मिल सके। 

रेत निकालने का काम बंद

शासन ने रेत निकालने के लिए ठेकेदार को ठेका दिया है। लेकिन गांव के ही कुछ असामाजिक युवक और व्यक्तियों ने घाट के कर्मियों से मारपीट किया था। डरा के कारण ठेकेदार ने रेत निकालने का काम बंद कर दिया हैं। इसे फिर से चालू करने के लिए 100 से अधिक की संख्या में ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। 

देखिए पीडीएफ -  https://images.haribhoomi.com/uploadimage/library/free_files/pdf/NewDoc_2024_04_03_044921.pdf

असामाजिक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग

ग्रामीणों ने कहा कि, इससे हमें रोजगार का नुकसान तो उठाना ही पड़ रहा है साथ ही शासन के भी मिलने वाले रॉयल्टी नहीं मिलने से राजस्व हानि हो रही है। जल्द से जल्द  असामाजिक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। शासन ने ग्राम रीवा डीह में रेत निकालने के लिए नियमित ठेकेदार को ठेका दिया है। जिससे गांव के बेरोजगार परिवारों को रोजगार मिल सके।

jindal steel
5379487