Logo
election banner
बस्तर में यहां-वहां नक्सलियों और सुरक्षाबलों के गोले-बारूद बिखरे हुए हैं। ऐसा ही एक UBGL आज CRPF कांस्टेबल के लिए जानलेवा साबित हुआ।

बीजापुर। छत्तीसगढ़ के बस्तर लोकसभा क्षेत्र के बीजापुर जिले में चुनाव ड्यूटी पर तैनात CRPF के जवान की शुक्रवार को मौत हो गई। बीजापुर पुलिस के मुताबिक, अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर जिसे UBGL कहते हैं, का एक गोला दुर्घटनावश फट गया। इस हादसे में 32 वर्षीय कॉन्स्टेबल देवेंद्र कुमार घायल हो गए थे। उन्हें इलाज के लिए बस्तर जिले के मुख्यालय जगदलपुर स्थित मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान वो शहीद हो गए।

बीजापुर पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, यह घटना उसूर पुलिस थाने की सीमा के अंतर्गत गलगम गांव के पास हुई। हादसे के वक्त सुरक्षाकर्मियों की एक टीम मतदान केंद्र से आधा किलोमीटर दूर सुरक्षा निगरानी अभियान पर निकली थी। जवान बस्तर जिले के गांव धोबीगुड़ा का निवासी बताया गया है। 

CRPF की 196वीं बटालियन का जवान था कांस्टेबल देवेंद्र कुमार

उल्लेखनीय है कि, छत्तीसगढ़ के सबसे ज्यादा नक्सल प्रभावित बस्तर जोकसभा क्षेत्र में ही आता है जिला बीजापुर। यहां शुक्रवार 19 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए मतदान चल रहा था। सुरक्षा जांच के दौरान जवानों को UBGL एक गोला पड़ा मिला। जिसे कांस्टेबल देवेंद्र कुमार ने अपने हाथों में उठाकर देख रहे थे। इसी दौरान वह गोला उनके हाथ में ही फट गया। गोला फटने ये घायल जवान को स्थानीय अस्पताल में उपचार के बाद एयर एम्बुलेंस हेलीकॉप्टर से बस्तर जिले के मुख्यालय जगदलपुर ले जाया गया और वहां के मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 

पैतृक गांव धोबीगुड़ा में होगा अंतिम संस्कार

बीजापुर पुलिस के मुताबिक, इस विस्फोट की जांच के लिए एक्सपर्ट्स की एक टीम को गलगम गांव भेजा गया है। जानकारी के मुताबिक कांस्टेबल देवेंद्र कुमार का अंतिम संस्कार शनिवार को बस्तर जिले में उनके पैतृक गांव धोबीगुड़ा में किया जाएगा।

jawan
शहीद जवान देवेंद्र कुमार

भाजपा के चार स्थानीय नेताओं को सुनाया मौत का फरमान

वहीं नक्सलियों ने भाजपा के चार स्थानीय नेताओं को जान से मारने की धमकी दी है। उन्होंने मंत्री केदार कश्यप के करीबियों को मौत की सजा देने का फरमान जारी किया है। बीजेपी नेता जयप्रकाश शर्मा, संजय तिवारी, गुलाब बघेल और शांतनु दुग्गा को धमकी मिली है। 

पर्चा जारी कर दी चेतावनी 

उल्लेखनीय है कि, आज बस्तर में पहले चरण का मतदान हो रहा है। संवेदनशील इलाका होने के कारण यहां पर 60 हजार से ज्यादा जवानों को तैनात किया गया है। हालांकि, नक्सली कुछ दिन पहले से ही चुनाव बहिष्कार के साथ ही भाजपा और कांग्रेस नेताओं को मार भगाने की बात कह रहे हैं। वहीं उन्होंने खोड़गांव और तेलसी के पास बैनर लगाकर बड़गांव और अंजरेल माइंस के काम को लेकर फिर एक बार धमकी दी है।

jindal steel Ad
5379487