Logo
Who is Tanmay Agarwal: हैदराबाद के बैटर तन्मय अग्रवाल ने रणजी ट्रॉफी में अरुणाचल प्रदेश के खिलाफ 366 रन की पारी खेल विश्व रिकॉर्ड बनाया है। इस पारी के दौरान उन्होंने महज 147 गेंद में तिहरा शतक ठोका, जो फर्स्ट क्लास इतिहास की सबसे तेज ट्रिपल सेंचुरी है।

Who is Tanmay Agarwal: एक-दो नहीं...पूरे 26 छक्के, 202 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी, टी20 में तो ऐसा करना नामुमकिन नहीं है लेकिन अगर कोई बैटर रेड बॉल क्रिकेट में ऐसा करे तो उसे करिश्मा ही कहेंगे। ऐसा ही कुछ हैदराबाद के ओपनिंग बैटर ने रणजी ट्रॉफी में किया है। इस बैटर ने अपनी एक पारी से वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ दिया है। इस बैटर ने काम क्या किया है, ये बताने से पहले उसका नाम बता देते हैं। तन्मय अग्रवाल ने हैदराबाद की तरफ से खेलते हुए रणजी ट्रॉफी के एक मैच में अरुणाचल प्रदेश के खिलाफ सबसे तेज तिहरा शतक ठोकने का कारनामा किया है। 

तन्मय अग्रवाल ने महज 147 गेंद में तिहरा शतक ठोका है। ये फर्स्ट क्लास क्रिकेट के इतिहास की सबसे तेज ट्रिपल सेंचुरी है। तन्मय ने मार्को मरायस का रिकॉर्ड तोड़ा है। मार्को ने 2017 में बॉर्डर टीम की तरफ से खेलते हुए ईस्टन प्रोविंस के खिलाफ 191 गेंद में तिहरा शतक जमाया था। 

तन्मय ने 3 घंटे में ट्रिपल सेंचुरी ठोक डाली
तन्यम को अपना तिहरा शतक पूरा करने में 183 मिनट यानी तीन घंटे से तीन मिनट अधिक लगे। इस तरह वो फर्स्ट क्लास क्रिकेट में सबसे कम समय में तिहरा शतक जमाने के मामले में दूसरे सबसे तेज बैटर बने। उनसे आगे सिर्फ डेनिस कॉम्पटन हैं।

उन्होंने एमसीसी की तरफ से खेलते हुए नॉर्थ ईस्टर्न ट्रांसवाल टीम के लिए 1948 में 181 मिनट में अपनी ट्रिपल सेंचुरी पूरी की थी। यानी तन्मय से दो मिनट पहले। अपने तिहरे शतक को पूरा करने के लिए डेनिस ने 261 गेंदें खेली थीं। 

तन्मय 366 रन बनाकर आउट हुए
तन्मय 400 रन पूरे नहीं कर पाए और 181 गेंद में 366 रन की पारी खेल पाए। उन्होंने ये रन 202 के स्ट्राइक रेट से बनाए है। तन्मय ने 26 छक्के मारे, जोकि फर्स्ट क्लास क्रिकेट में एक रिकॉर्ड है। इसके अलावा उनके बल्ले से 34 चौके निकले। यानी चौके-छक्कों से ही उन्होंने 60 गेंद में 292 रन ठोक डाले। 

तन्मय ने रवि शास्त्री का रिकॉर्ड तोड़ा
366 रन की पारी के दौरान तन्मय ने 119 गेंद में ही अपना दोहरा शतक पूरा कर लिया था। यह किसी भारतीय द्वारा फर्स्ट क्लास क्रिकेट में (जहां ज्ञात हो) गेंदों के हिसाब से सबसे तेज़ है। उन्होंने रवि शास्त्री के 1985 में बड़ौदा के खिलाफ 123 गेंदों पर दोहरे शतक के रिकॉर्ड को तोड़ा है। 

कौन हैं तन्मय अग्रवाल?
28 साल के तन्मय हैदराबाद में ही हुआ है। उन्होंने कम उम्र में ही बल्ला थाम लिया था और ऐज ग्रुप क्रिकेट के दौरान ही अपने तेवर दिखला दिए थे। उन्होंने सभी ऐज ग्रुप क्रिकेट के डेब्यू पर शतक जमाया है। उन्होंने हैदराबाद की अंडर-14, अंडर-16, फिर अंडर-19 टीम से अपना सफर तय करते हुए सीनियर टीम में जगह बनाई। तन्मय ने 2014 में फर्स्ट क्लास क्रिकेट में डेब्यू किया था।

वो रेड बॉल क्रिकेट के अलावा टी20 में भी ताबड़तोड़ बैटिंग करते हैं। तन्मय अबतक 55 फर्स्ट क्लास मैच में 45 से अधिक की स्ट्राइक रेट से 3533 रन बना चुके हैं। उन्होंने 11 शतक और इतने ही अर्धशतक जमाए हैं। वो बाएं हाथ से बल्लेबाजी के अलावा लेगब्रेक गेंदबाजी भी कर लेते हैं। 

jindal steel Ad
5379487