Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Swami Vivekananda Birthday: जहां भारतीयों के साथ किया जाता था भेदभाव, वहां कैसे विवेकानंद ने बिताए 3 साल

Swami Vivekananda Birthday: स्वामी विवेकानंद का जीवन बेशक 39 वर्ष का हो लेकिन विवेकानंद जी का जीवन आने वाली ना जाने कितनी ही पीढ़ी को प्रेरित करेगा। स्वामी विवेकानंद ने अमेरिका में भी अपनी अनूठी छाप छोड़ी थी, अमेरिका में स्वामी ने रामकृष्ण मिशन की शाखाएं खोली थी।

Swami Vivekananda Birthday: जहां भारतियों को गंदी नजरों से देखा जाता था, वहीँ विवेकानंद जी ने कैसे बिताए 3 सालस्वामी विवेकानंद जयंती

Swami Vivekananda Birthday: 12 जनवरी को विवेकानंद जी की जयंती के अवसर पर देश भर समेत विदेशों में भी युवा दिवस के रूप में मनाया जाएगा। बेशक स्वामी विवेकानंद जी का जीवन बस 39 वर्ष का है लेकिन उनके इस छोटे से जीवन को समझने के लिए व्यक्ति को कई जीवन लेने होंगे। स्वामी विवेकानंद जी के अंतिम दिनों में कहा जाता था कि स्वामी विवेकानंद जी के जीवन को समझाने के लिए एक और विवेकानंद को जन्म लेना होगा। स्वामी विवेकानंद जी अपने जीवनभर कई देशों के भ्रमण पर रहे।

जहां भारतियों को हीन नजरों से देखा जाता था

एक बार स्वामी विवेकानंद जी अमेरिका की यात्रा पर थे। अमेरिका में उस समय भारतियों को तुच्छ समझा जाता था, भारतियों के साथ अमेरिका में भेदभाव और कई तरह के गलत व्यवहार होते थे। स्वामी विवेकानंद जी द्वारा अमेरिका में दिए गए प्रसिद्द भाषण को रोकने के लिए भी वहां के लोगों ने खूब प्रयास किया था। किसी तरह विवेकानंद जी को बेहद कम समय मिला लेकिन उस कम समय में ही स्वामी जी ने वहां बैठे लोगों का दिल जीत लिया।

अमेरिका के शिकागो में दी गई स्वामी विवेकानंद जी की स्पीच

अमेरिका में बिताए तीन साल

स्वामी विवेकानंद जी ने अमेरिका में लगभग तीन साल बिताए। इस दौरान विवेकानंद जी अमेरिका में भी अपने अनुयायी बना लिए। अमेरिका में उनके चाहने वालों का एक बड़ा हिस्सा बन गया था। अब अमेरिका के लोग विवेकानंद जी का स्वागत करने लग गए थे।

अमेरिका में उनका व्यक्तित्व इतना बड़ा हो गया था कि वहां की मीडिया विवेकानंद जी को "cyclonic Hindu" कहकर पुकारने लगी थी। स्वामी विवेकानंद जी ने अपने गुरु रामकृष्ण परमहंस के नाम शुरू की रामकृष्ण मिशन की शाखाएं भी अमेरिका में खोली थी। विवेकानंद जी ने सदैव भारतीय संस्कृति का देश विदेश में व्यख्यान किया था।


Next Story
Top