Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Sukanya Samriddhi Yojana: बेटी के भविष्य की चिंता खत्म, केवल 250 रुपये में खुलवाएं अकाउंट, जानें लाभ

Sukanya Samriddhi Yojana: बेटी के भविष्य की फिक्र करना अब छोड़ दें और केंद्र सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करें। इस योजना के तहत छोटी-छोटी बजत के जरिए बच्ची की शादी और उच्च शिक्षा के लिए जरूरी राशि भी जमा की जा सकती है।

Sukanya Samriddhi Yojana: बेटी के भविष्य की चिंता खत्म, केवल 250 रुपये में खुलवाएं अकाउंट, जानें लाभसुकन्या समृद्धि योजना

Sukanya Samriddhi Yojana: बेटी के भविष्य की फिक्र करना अब छोड़ दें और केंद्र सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करें। इस योजना में निवेश करने से इनकम टैक्स भी बचाया जा सकता है। साथ ही छोटी-छोटी बजत के जरिए बच्ची की शादी और उच्च शिक्षा के लिए जरूरी राशि भी जमा की जा सकती है।

क्या है सुकन्या समृद्धि योजना

सुकन्या समृद्धि योजना केंद्र सरकार के द्वारा शुरू की गई एक छोटी बजत योजना है। इसकी शुरूआत बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ के अन्तर्गत की गई है। इसमें इनकम टैक्स की भी बजत की जा सकती है। इस योजना की शुरूआत ऐसे परिवारों के लिए की गई है जिनकी आमदमी कम है। लेकिन वो छोटी-छोटी बजत के जरिए अपनी बेटी की पढ़ाई और शादी के लिए पैसे जमा करना चाहते हैं।

क्या है निवेश की न्यूनतम राशि

सुकन्या समृद्धि योजना में अकाउंट खुलावाने के लिए न्यूनतम राशि 250 रुपये की है। किसी एक वित्तीय साल में 250 रुपये की राशि जमा करवाना अनिवार्य हैं। साथ ही 100 के गुणक में भी इस अकाउंट में पैसे जमा करवाए जा सकते हैं। इसे उन लड़कियों के लिए खुलवाया जा सकता है जिनकी उम्र 10 साल से कम है। इस योजना के तहत अधिकतम 1.5 लाख की राशि चालू वित्तीय वर्ष में जमा करवाई जा सकती है।

साथ ही इस योजना के तहत इस अकाउंट में 15 साल तक पैसे जमा करवाए जा सकते हैं। वहीं बच्ची के 24 से 30 साल के उम्र होने तक इस अकाउंट में जमा राशि पर ब्याज भी मिलता रहेगा। बता दें कि अगर बच्ची की शादी 21 साल से पहले हो जाती है तो उसके बाद अकाउंट में कोई रकम जमा नहीं करवाई जा सकती है।

अकाउंट खुलवाने से संबंधित जरुरी बातें

सुकन्या समृद्धि योजना से जुड़ने के लिए पोस्ट ऑफिस या कमर्शियल ब्रांच की अधिकृत शाखा में माता-पिता या कानूनी अभिभावक के द्वारा बच्ची के नाम से अकाउंट खुलवाया जा सकता है। बता दें कि इस योजना के तहत एक बच्ची का एक ही अकाउंट खुलवाया जा सकता है। जिसे उसके 21 साल होने तक या 18 साल के बाद उसकी शादी होने तक चलाया जा सकता है।

साथ ही इस योजना में बच्ची के 18 साल के होने के बाद उच्च शिक्षा या किसी भी जरूरत के लिए 50 प्रतिशत तक की राशि निकाली जा सकती है। इस योजना में अपनी बच्ची का अकाउंट खुलवाने के लिए बच्ची के बर्थ सर्टिफिकेट के साथ बच्ची और अभिभावक के पहचान और पते का प्रमाण देना जरुरी होता है।

मैच्योरिटी से पहले अकाउंट कैसे बंद करें

सुकन्या समृद्धि योजना के अकाउंट धारक की मृत्यु होने पर डेथ सर्टिफिकेट दिखाकर अकाउंट बंद करवाया जा सकता है। जिसके बाद जमा रकम ब्याज के साथ बच्ची के अभिभावक को मिल जाती है।

दूसरी शर्त के अनुसार इस खाते को खोलने के 5 साल बाद भी इसे बंद कराया जा सकता है। किसी खतरनाक बीमारी या किसी गंभीर कारण के अलावा दूसरे किसी कारण से अकाउंट बंद करवाने की शर्त पर ब्याज सेविंग अकाउंट के हिसाब से ही दिया जाएगा।

इसके अलावा सुकन्या समृद्धि योजना के अकाउंट को ट्रांसफर करने की भी व्यवस्था की गई है। जिसमें किसी भी तरह की कोई राशि देने की जरूरत नहीं होती है। लेकिन बच्ची के अभिभावक को शिफ्ट करने का प्रमाण दिखाना जरूरी होता है।

Next Story
Top