Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

निर्भया रेप केस: चारों दोषियों की फिर एक फरवरी को टल सकती है फांसी, ये है वजह

निर्भया रेप केस में चारों दोषियों को नया डेथ वारंट जारी हो गया है। लेकिन पवन गुप्ता की याचिका के बाद फिर से सुनवाई इस वजह से टल सकती है।

निर्भया रेप केस: चारों दोषियों की फिर एक फरवरी को टल सकती है फांसी, ये है वजह

निर्भया रेप केस में चारों दोषियों को नया डेथ वारंट जारी हो गया है। अब एक फरवरी की सुबह 6 बजे उन्हें फांसी दी जाएगी। लेकिन ऐसे में ये फांस टल सकती है। क्योंकि चारों में से एक दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। जिसमें उसने अपने आप को नाबालिग बताया है। ऐसे में ये कहीं ना कहीं फांसी पर सस्पेंड खड़ा कर सकता है।

बीते दिन राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 2012 में निर्भया गैंगरेप और हत्या मामले में मृत्युदंड के दोषी मुकेश कुमार सिंह की दया याचिका को खारिज कर दिया था। जिसके कुछ घंटों बाद ही दिल्ली की एक कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी कर दिया। जिसमें 1 फरवरी को सुबह 6 बजे सभी चार दोषियों कोफांसी तय की गई।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सतीश कुमार अरोड़ा ने भी मुकेश की याचिका पर सुनवाई में देरी पर नाराजगी जताई। न्यायाधीश ने कहा कि सभी चार दोषियों को दया याचिका दायर करने के लिए पर्याप्त समय दिया गया था, लेकिन उनमें से केवल एक ने ऐसा करना पसंद किया।

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 2012 के निर्भया गैंगरेप मामले में मौत की सजा पाने वाले मुकेश सिंह की दया याचिका को खारिज कर दी थी। जिसके तुरंत बाद कोर्ट ने शुक्रवार को 1 फरवरी को तिहाड़ जेल में सभी चार दोषियों को फांसी देने के लिए नया डेथ वारंट जारी किया।

क्या कहता है जेल का नियम

दिल्ली जेल नियम में कहा गया है कि यदि मौत की सजा एक ही मामले में एक से अधिक व्यक्तियों पर फैसला दिया गया है और यदि अपील या आवेदन केवल एक या एक से अधिक लोगों की ओर से किया जाता है, लेकिन उन सभी को नहीं तो ऐसे सभी व्यक्तियों (मौत की सजा वाले कैदी) के मामले में सजा को स्थगित कर दिया जाता है।

पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट

निर्भया मामले में याचिका खारिज होते ही दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। याचिका दाखिल कर हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दी है। दोषी पवन कुमार गुप्ता ने दिल्ली हाई कोर्ट में अर्जी दायर कर दावा किया था कि दिसंबर 2012 में घटना के समय वह नाबालिग था। उसकी उम्र 18 वर्ष से कम थी। हालांकि दिल्ली हाई कोर्ट ने दोषी की नाबालिग बताने वाली याचिका को खारिज कर दिया था। वहीं कोर्ट ने दोषी के वकील पर 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया था।

दोषियों को 1 फरवरी को होगी फांसी

दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने शुक्ररवार को निर्भया गैंगरेप केस के चारों दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट जारी कर दिया है। चारो दाषियों को अब एक फरवरी सुबह छह बजे फांस दी जाएगी। बता दें कि दाषियों को पहले 22 जनवरी को फांसी दी जानी थी। कोर्ट को तिहाड़ जेल अधिकारियों ने सूचना दी कि मुकेश की दया याचिका को राष्ट्रपति ने खारिज कर दिया है। इसके बाद कोर्ट ने नया डेथ वॉरंट जारी किया।

Next Story
Top