Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ईरान से मुस्लिमों को बचाकर ला रही सरकार, सोशल मीडिया यूजर्स विरोधियों पर साध रहे निशाना

Coronavirus : केंद्र सरकार विदेशों में रह रहे भारतीयों को वापस अपने देश ला रही है, ताकि उन्हें कोरोना की चपेट में आने से बचाया जा सके। केंद्र सरकार ने चीन से सैकड़ों भारतीयों को वापस अपने देश बुला लिया है।

ईरान से मुस्लिमों को बचाकर ला रही सरकार, सोशल मीडिया यूजर्स विरोधियों पर साध रहे निशानाकोरोना वायरस

चीन से शुरू हुआ कोरोना वायरस दुनिया के 70 से ज्यादा देशों में पहुंच चुका है। इस वायरस से दुनियाभर में 3 हजार से अधिक लोगों की मौत हो गई है। जबकि 88 हजार से ज्यादा कोरोना वायरस से पीड़ित हैं। कोरोना वायरस ने भारत, ईरान और इरान में भी पैर जमाने शुरू कर दिए हैं। ईरान में कोरोना से 92 से अधिक लोगों की मौत हो गई है।

केंद्र सरकार विदेशों में रह रहे भारतीयों को वापस अपने देश ला रही है, ताकि उन्हें कोरोना की चपेट में आने से बचाया जा सके। केंद्र सरकार ने चीन से सैकड़ों भारतीयों को वापस अपने देश बुला लिया है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो केंद्र सरकार ईरान से भारतीयों को निकालने की कोशिश में जुटी है। इसी बीच एक ट्विटर यूजर्स सुशांत सिन्हा ने एक ट्वीट किया है। सुशांत सिन्हा ने ट्वीट में यह बताने की कोशिश की है कि मोदी सरकार भारत के मुसलमानों को देश से नहीं निकालना चाहती है।

सुशांत सिन्हा ने ट्वीट करते हुए लिखा कि ईरान में करीब 1200 भारतीय फंसे हैं। 800 छात्र हैं। लगभग सभी मुसलमान हैं। वही मुसलमान जिनके लिए कहा जाता है कि नरेंद्र मोदी सरकार उन्हें देश से निकाल देना चाहती है। पर हो ये रहा है कि सरकार स्क्रीनिंग मशीन ईरान भेजकर एक एक को बचाकर निकाल रही है। अब भी नहीं दिखता तो अल्लाह मालिक है।

मोदी सरकार पर लग रहे ये आरोप

बता दें नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए), एनआरसी और एनपीआर को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि मोदी सरकार देश में एनआरसी लागू करके भारत से मुसलमानों को निकालना चाहती है, और इस देश को हिंदू राष्ट्र बनाना चाहती है।

मोदी सरकार इसकी प्रक्रिया एनपीआर के जरिए कर रही है। सीएए कानून को वापस लेने के लिए देश की राजधानी समेत विभिन्न राज्यों में लोग मोदी सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। दिल्ली के शाहीन बाग में महिलाएं करीब 90 दिनों से सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रही हैं।

Next Story
Top