Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Chamki Fever: भारत ही नहीं इन 24 देशों में भी होती है 'इंसेफेलाइटिस' जैसी बीमारी से हर साल मौत

बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से अब तक 108 बच्चों की मौत हो चुकी है और 440 बच्चे अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं।

Chamki Fever In WorldChamki Fever In World

बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से अब तक 108 बच्चों की मौत हो चुकी है और 440 बच्चे अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं। जिनका ईलाज किया जा रहा है। एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) को चमकी बुखार, मस्तिष्क ज्वार, दिमागी बुखार, जापानी बुखार आदि नामों से पुकारा जाता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत ही नहीं 24 देशों में लोग इस बीमारी से पीड़िता है। इस बीमार की गिरफ्तर में दक्षिण पश्चिम एशिया और पश्चिमी प्रशांत के 24 देश आते हैं। जहां हर साल हजारों बच्चों की मौत हो जाती है।

डब्ल्यू एच ओ की रिपोर्ट बताती है कि इन 24 देशों में 300 करोड़ लोग इस वायरल की वजह से हमेशा खतरे में रहते हैं। भारत में बीत 8 सालों के अंदर इस बीमारी की वजह से अब तक 11 हजार 254 लोगों की मौत हो चुकी है।

इस बीमारी से पीड़िता होने वालों की उम्र 15 साल तक है। इस बीमारी का खतरा सबसे ज्यादा छोटे बच्चों में रहता है। बीते सोमवार तक एक्यूट एंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (दिमागी) बुखार से मुजफ्फरपुर में 100 से ज्यादा बच्चों की मौत हो गए थी। सरकारी एसकेएमसीएच और निजी केजरीवाल अस्पताल में अभी तक दिमागी बुखार से 105 बच्चों की मौत हो चुकी है।

Share it
Top