Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

BRICS Meeting: चीन ने कहा- मुश्किल घड़ी में हम भारत के साथ, जानें मीटिंग में कौन-कौन से मुद्दे उठे

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मीटिंग के अंत में पांचों देशों के विदेश मंत्रियों ने एक-दूसरे को सामूहिक रूप से हाथ जोड़कर नमस्कार किया।

BRICS Meeting: चीन ने कहा- मुश्किल घड़ी में हम भारत के साथ, जानें मीटिंग में कौन-कौन से मुद्दे उठे
X

ब्रिक्स देशों क्रमश: ब्राजील, रूस, भारत, चीन और साउथ अफ्रीका के विदेश मंत्रियों के बीच आज वर्चुअल मीटिंग हुई। इस मीटिंग का मुख्य एजेंडा कोरोना वायरस से पैदा हुईं परेशानियों और इस दौरान आपसी सहयोग था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मीटिंग के दौरान चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि चीन इस मुश्किल दौर में भारत के साथ खड़ा है। बता दें कि इस मीटिंग की अध्यक्षता भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने की।

भारत की तरफ से क्या कहा गया

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मीटिंग के अंत में पांचों देशों के विदेश मंत्रियों ने एक-दूसरे को सामूहिक रूप से हाथ जोड़कर नमस्कार किया। मीटिंग के दौरान भारत के विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा कि हम चाहते हैं कि अंतरराष्ट्रीय कानूनों के तहत सभी देश देशों को बराबरी का हक और प्रतिनिधित्व मिले। इसके अलावा विदेश मंत्री ने कहा कि एक दूसरे की संप्रभुता का सम्मान भी यूएन चार्टर के हिसाब से ही होना चाहिए। सभी देशों को जरूरत है कि वे एक दूसरे की क्षेत्रीय एकता का सम्मान करें।

मीटिंग में उठा कोरोना वैक्सीन का मुद्दा

जानकारी के लिए आपको बता दें कि इस मीटिंग में कोरोना वैक्सीन का मुद्दा भी उठा है। दक्षिण अफ्रीका के विदेश मंत्री कोरोना वैक्सीन का मुद्दा उठाते हुए कहा कि वैक्सीन के मामले में टेक्नोलॉजी ट्रांसफर और प्रोडक्शन पर सहयोग और समझौते की आवश्यकता है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि हमें यह याद रखना बहुत जरूरी है कि जब तक सभी सुरक्षित नहीं हो जाते तब तक हम भी सुरक्षित नहीं हैं। वैक्सीन के मामले में ग्लोबल गैप बहुत अधिक है।

चीन की ओर से क्या कहा गया

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मीटिंग के दौरान चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने भारत से सहयोग का वादा किया है। चीनी विदेश मंत्री ने कहा कि भारत कोरोना वायरस महामारी के मुश्किल दौर से गुजर रहा है। इस मुश्किल वक्त में हम नई दिल्ली को सहयोग का वादा करते हैं। हम बाकी ब्रिक्स देशों से भी कहना चाहते हैं कि चीन इस मामले पर सहयोग के लिए तैयार है।

Next Story