Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर का कल से फिर शुरू होगा सियासी सफर, सोमवार को होंगी शिवसेना में शामिल

उर्मिला मातोंडकर साल 2019 में हुए लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में शामिल हुई थी। जिसके बाद उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर मुंबई उत्तर से चुनाव लड़ा था। लेकिन उन्हें भारतीय जनता पार्टी के गोपाल शेट्टी से मात खानी पड़ी थी।

बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर का कल से फिर शुरू होगा सियासी सफर, सोमवार को होंगी शिवसेना में शामिल
X

सियासी पारी खेल चुकी बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर एक बार फिर नए सिरे से अपना सियासी सफर शुरू करने जा रही हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर कल (सोमवार) को शिवसेना में शामिल होंगी।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि उर्मिला मातोंडकर साल 2019 में हुए लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में शामिल हुई थी। जिसके बाद उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर मुंबई उत्तर से चुनाव लड़ा था। लेकिन उन्हें भारतीय जनता पार्टी के गोपाल शेट्टी से मात खानी पड़ी थी।

लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद उर्मिला मातोंडकर ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद अब वह फिर से अपनी राजनीति पारी शुरू करने जा रही हैं। सोमवार को उर्मिला शिवसेना में शामिल होंगी।

उर्मिला मातोंडकर के पहले से ही शिवसेना में शामिल होने के कयास लगाये जा रहे थे। क्योंकि महाराष्ट्र में शिवसेना के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार उर्मिला को विधान परिषद का सदस्य बनाने की तैयारी में थी।

सरकार ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को उनका नाम भेजा था। महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी की सरकार ने राज्यपाल के पास 12 नामों की एक लिस्ट भेजी थी। जिन्हें राज्यपाल के कोटे से विधान परिषद भेजा जाना है।

शिवसेना ने बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर, चंद्रकांत रघुवंशी, विजय करंजकर और नितीन बानगुडे पाटिल का नाम भेजा। इसके बाद से उनके शिवसेना में शामिल होने के कयास लगाये जाने शुरू हो गए थे। वहीं कांग्रेस ने रजनी पाटिल, सचिन सावंत, मुझफ्फर हुसैन और अनिरुद्ध वनकर का नाम भेजा है और एनसीपी ने एकनाथ खडसे, राजू शेट्टी, यशपाल भिंगे और आनंद शिंदे का नाम भेजा।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस का महा विकास अघाड़ी गठबंधन है। इसलिए, इन तीनों पार्टियों ने 4-4 नेताओं का नाम राज्यपाल के पास भेजा गया था।

Next Story