Logo
election banner
Congress Assam working president Resigns:कांग्रेस की मुसीबतें थमने का नाम नहीं ले रही है। पार्टी के नेता एक के बाद एक इस्तीफा दे रहे हैं। इस कड़ी में नया नाम असम में पार्टी के वर्किंग प्रेसिडेंट और जोरहाट विधायक राणा गोस्वामी का है। राणा गोस्वामी जल्द ही बीजेपी जॉइन कर सकते हैं।

Congress Assam working president Resigns: कांग्रेस की मुसीबतें थमने का नाम नहीं ले रही है। लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस से एक के बाद एक नेता पार्टी छोड़कर बीजेपी जॉइन कर रहे हैं। इस कड़ी में अगला नाम असम में पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष राणा गोस्वामी का है। राणा असम के जोरहाट के विधायक है। राणा ने कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल को चिट्ठी लिखकर अपने इस्तीफे की जानकारी दी है। 

राणा गोस्वामी ने क्या लिखा चिट्ठी में 
राणा गोस्वामी ने अपनी चिट्ठी में लिखा हे कि मैं सादर अनुरोध के साथ बता रहा हूं कि मैं असम प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वर्किंग प्रेसिडेंट और इंडियन नेशनल कांग्रेस की सक्रिय सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि इससे पहले महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हान और पूर्व सांसद मिलिंद देवरा ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था और बीजेपी में शामिल हो गए थे। 

बीजेपी अध्यक्ष नड्डा से कर सकते हैं मुलाकात
सूत्रों के मुताबिक राणा गोस्वामी फिलहाल दिल्ली में हैं और जल्द ही बीजेपी जॉइन कर सकते हैं। ऐसा बताया जा रहा है कि राणा गोस्वामी जल्द ही बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा के साथ मुलाकात कर सकते हैं। बता दें कि बीजेपी की असम कोर ग्रुप और केंद्रीय नेतृत्व की बैठक दिल्ली में चल रही है। इस बैठक में लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर मंथन किया जा रहा है।

असम कांग्रेस का अहम चेहरा माने जाते थे राणा
बता दें कि राणा गोस्वामी असम कांग्रेस के अहम चेहरों में से एक जाने जाते हैं। हाल ही में असम में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के दौरान व्यवस्थाएं जुटाने में अहम भूमिका निभाई थी। कुछ दिन पहले ही पुलिस ने भी राणा गोस्वामी से पूछताछ की थी। राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा ने तय रूट का पालन नहीं किया था। इस संबंध में दर्ज मामले को लेकर राणा से पूछताछ की गई थी। 

असम विधानसभा में अब कांग्रेस के सिर्फ 23 विधायक
इस महीने की शुरुआत में असम के कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कमलाखय डे पुरकायस्थ ने भी पार्टी से इस्तीफा दे दिया था और राज्य की बीजेपी में शामिल हो गए थे। पुरकायस्थ अपने साथ विधायक बसंत दास को भी बीजेपी में ले गए थे। अब राणा के जाने के बाद प्रदेश के 126 सदस्यों वाले विधानसभा में कांग्रेस के पास सिर्फ 23 विधायक रह गए हैं। 

jindal steel
5379487