Logo
Indian Army: जनरल मनोज पांडे ने अप्रैल 2022 में भारतीय सेना की बागडोर संभाली थी। वे 31 मई को रिटायर होने वाले थे। उन्होंने नेशनल डिफेंस एकेडमी पढ़ाई की, फिर 1982 में कोर ऑफ इंजीनियर्स में नियुक्ति मिली।

Indian Army: केंद्र सरकार ने सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे का कार्यकाल एक महीने के लिए बढ़ा दिया है। रविवार 26 मई को हुई कैबिनेट की अप्वाइंटमेंट कमेटी की बैठक में यह फैसला लिया गया। आर्मी चीफ जनरल मनोज सी. पांडे 31 मई को रिटायर होने वाले थे। उनके कार्यकाल को 30 जून तक बढ़ाया गया है। रक्षा मंत्रालय ने बयान में कहा कि जनरल मनोज पांडे (General Manoj Pande) को सेना नियम 1954 के 16 ए (4) के मुताबिक, सेना प्रमुख (Army chief) के रूप में एक्सटेंशन को मंजूरी दी गई। 

अप्रैल 2022 में संभाली थी सेना की बागडोर 
बता दें कि जनरल पांडे ने अप्रैल 2022 में 1.2 मिलियन सैनिकों की संख्या वाली मजबूत फोर्स की बागडोर संभाली थी। इससे पहले उन्होंने डिप्टी आर्मी चीफ के रूप में कार्य किया था। मनोज पांडे का 6 मई, 1962 को हुआ। वे दो साल से ज्यादा समय तक 29वें सेना प्रमुख रहे हैं। सेवा प्रमुख का कार्यकाल समान्यत: तीन साल का होता है या उनके 62 साल के होने तक, जो भी पहले हो। उप सेना प्रमुख का कार्यभार संभालने से पहले जनरल पांडे कोलकाता स्थित ईस्टर्न कमान की अगुआई कर चुके हैं, जो पूर्वी क्षेत्र में भारत-चीन सीमा की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालती है।

जनरल मनोज पांडे की क्या रही हैं उपलब्धियां?
सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे के कार्यकाल में इंडियन आर्मी ने लद्दाख में सीमा विवाद के बीच चाइनीज पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के खिलाफ अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए पूर्वी क्षेत्र में नए वेपन सिस्टम को तैनात किया है।

1982 में कोर ऑफ इंजीनियर्स में मिली थी नियुक्ति
नेशनल डिफेंस एकेडमी के पूर्व छात्र मनोज पांडे को दिसंबर 1982 में कोर ऑफ इंजीनियर्स (बॉम्बे सैपर्स) में नियुक्ति मिली थी। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में एलओसी के साथ पल्लनवाला सेक्टर में ऑपरेशन पराक्रम के दौरान एक इंजीनियर रेजिमेंट की कमान भी संभाली।

ये अहम जिम्मेदारियां संभाल चुके हैं जनरल पांडे
अपने 41 साल के डिफेंस करियर में जनरल पांडे ने पश्चिमी थिएटर में इंजीनियर ब्रिगेड, एलओसी पर पैदल सेना ब्रिगेड, लद्दाख सेक्टर में एक माउंटेन डिवीजन और पूर्वोत्तर में एक कोर की कमान संभाली है। पूर्वी कमान का कार्यभार संभालने से पहले वह अंडमान और निकोबार कमान के कमांडर-इन-चीफ थे। जनरल पांडे ने स्टाफ कॉलेज कैम्बर्ली (यूके), आर्मी वॉर कॉलेज महू और नेशनल डिफेंस कॉलेज दिल्ली से कोर्स पूरे किए हैं। 

jindal steel Ad
5379487