Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऑफिस जोन कीर्तिश आप भी बन सकते वर्कप्लेस सुपर स्टार

सेक्टर कोई भी हो वर्कप्लेस पर कुछ ही ऐसे प्राफेशनल्स होते हैं, जो वहां के सुपर स्टार माने जा सकते हैं। उन्हें ऑफिस हेड से लेकर जूनियर्स तक सभी पसंद करते हैं। उनका काम हमेशा टाइम पर पूरा हो जाता है। यकीन मानिए, ऐसे आप भी बन सकते हैं।

ऑफिस जोन कीर्तिश आप भी बन सकते वर्कप्लेस सुपर स्टार
X

सेक्टर कोई भी हो वर्कप्लेस पर कुछ ही ऐसे प्राफेशनल्स होते हैं, जो वहां के सुपर स्टार माने जा सकते हैं। उन्हें ऑफिस हेड से लेकर जूनियर्स तक सभी पसंद करते हैं। उनका काम हमेशा टाइम पर पूरा हो जाता है। यकीन मानिए, ऐसे आप भी बन सकते हैं।

लगभग हर वर्कप्लेस में दो तरह के लोग होते हैं। एक वे जो हमेशा बिजी रहते हैं। इनके हर न हो सकने वाले काम की वजह, इनका बिजी होना होता है। आप इनसे पूछिए कि इन्होंने फलां सूचना आपको क्यों नहीं दी तो इनका जवाब होगा बहुत बिजी था। आप अगर इनसे कहेंगे कि कम से कम मैसेज तो कर ही सकते थे तो उसके लिए भी इनका यही जवाब होगा-बिजी बहुत था। दरअसल ऐसे लोगों के लिए बिजी होना एक ऐसा ब्रह्मास्त्र है, जिसका वे अपनी हर गलत बात, हर गलत आदत की रक्षा में वीटो की तरह इस्तेमाल करते हैं।

वास्तव में बिजी होना और बिजी या व्यस्त होने की आदत का शिकार होना दो बिल्कुल अलग बातें हैं। जो व्यक्ति 10 कामों में से 8 कामों के न होने का कारण अपने को बिजी होना बताए, समझ लीजिए कि वह सज्जन व्यस्त नहीं, व्यस्तता के मनोविकार का शिकार हैं। इनके उलट कुछ ऐसे एंप्लॉई भी होते हैं, जो अपने कर काम को परफेक्शन से अंजाम देते हैं। कभी किसी काम को न करने का बहाना नहीं बनाते हैं। ऐसे लोग ही बॉस के फेवरेट होते हैं और अपने वर्कप्लेस के सुपर स्टार कहे जाते हैं।

विकसित करें खास गुण

अब आपके मन में भी सवाल उठ रहा होगा कि ऑफिस में बॉस की नजरों का तारा कैसे बन सकते हैं, क्योंकि जो बॉस की नजरों का तारा होगा, वही होगा दफ्तर का सुपरस्टार। इसके लिए आपको उन क्वालिटीज को डेवलप करना होगा, जो इनमें होती हैं।

-ऐसे एंप्लॉई बॉस की अनुपस्थिति में उनकी उपस्थिति से कहीं ज्यादा जिम्मेदार होते हैं।

-दफ्तर में उनके काम का ढंग पूर्णनिष्ठा और सर्मपण वाला होता है।

-ऐसा व्यक्ति अपने कार्यों का पहले वरीयता क्रम बनाता है उसके अनुसार काम को अंजाम देता है।

- ऐसा व्यक्ति न सिर्फ अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए काम निपटाता है बल्कि समय सीमा का ध्यान भी रखता है।

-ऐसा व्यक्ति अपने निजी फोन कॉल्स के लिए ऑफिस टाइम का यूज नहीं करता है।

-ऐसे व्यक्ति के सामने अगर कोई ऐसा काम होता है, जिसे वह कुछ मिनटों से खत्म कर सकता है तो उसे टालता नहीं।

-ऐसा व्यक्ति अपनी ऑफिस की जिम्मेदारियों को सुचारु रूप से निभाने के लिए अपनी एक कार्य योजना रखता है, जिस पर कड़ाई से अमल करता है।

-ऐसे व्यक्ति को पता होता है कि यह काम खत्म करने के बाद दूसरा काम कौन-सा करना है।

-ऐसा व्यक्ति जानता है कि उसे उपलब्ध सूचनाओं को किस तरह सकारात्मक ढंग से इस्तेमाल करना है।

-ऐसे व्यक्ति को पता होता है कि किस काम के लिए किस व्यक्ति को फोन करना है और किसे ई-मेल करना फायदेमंद रहेगा।

-ऐसा व्यक्ति अपने जूनियर, सीनियर और कुलीग्स के संग अच्छा बिहेव करता है और ऑफिस के अनुशासन का ध्यान रखता है।

-ऐसा व्यक्ति आदेश की प्रतीक्षा में नहीं रहता और अपनी जिम्मेदारी के अनुसार कार्य करता है।

-ऐसा व्यक्ति अपनी लोकप्रियता से भ्रमित नहीं होता और न ही किसी तरह के ईगो में रहता है।


Next Story