Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी कराएगी NEET, CBSE UGC NET, CMET.GPET और JEE MAIN जैसी परीक्षाएं, वो भी ऑनलाइन

साल में दो बार होगी जेईई-मेन और नीट (यूजी) की प्रवेश परीक्षा सीबीएसई, एआईसीटीई और यूजीसी पर पड़ता प्रवेश परीक्षाओं का बोझ होगा कम।

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी कराएगी NEET, CBSE UGC NET, CMET.GPET और JEE MAIN जैसी परीक्षाएं, वो भी ऑनलाइन

सीबीएसई, एआईसीटीई और यूजीसी पर सालाना प्रतियोगी प्रवेश परीक्षाएं आयोजित कराने का बोझ कम हो जाएगा। क्योंकि अब यह सारी जिम्मेदारी नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) निभाएगी।

यहां शनिवार को इस बाबत आयोजित एक प्रेसवार्ता में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि एनटीए ने काम करना शुरु कर दिया है। इस वर्ष यह नीट (यूजी), नेट (यूजीसी), जेईई (मेन), सीमेट और जीपेट जैसी परीक्षाएं आयोजित करेगी।

इसकी खास बात यह होगी कि छात्रों को लिखित के बजाय कंप्युटर पर ही परीक्षा देनी होगी। यह पहला मौका होगा जब एनटीए के जरिए जेईई-मेन और नीट की परीक्षा साल में दो बार आयोजित की जाएगी।

परीक्षाओं से जुड़े हुए पाठ्यक्रम, प्रश्नपत्रों के स्वरुप, उत्तर के रुप में प्रयोग की जाने वाली भाषाओं का विकल्प और प्रवेश परीक्षा के लिए ली जाने वाली फीस में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। जेईई-एडवांस परीक्षा का आयोजन पहले की तरह ही आईआईटी संस्थानों द्वारा ही कराया जाएगा। परीक्षा जितनी भाषाओं में होती हैं, उतनी में ही होंगी।

पारदर्शी होगा सिस्टम

एनटीए के जरिए देश के परीक्षा तंत्र में एक बड़ा सुधार होगा। इससे परीक्षाओं का आयोजन वैज्ञानिक पद्वति से अंतरराष्ट्रीय स्तर का हो जाएगा, पेपर लीक जैसी समस्या खत्म होगी, प्रवेश परीक्षाओं से जुड़े सिस्टम में पारदर्शिता बढ़ेगी और संबंधित तंत्र की जवाबदेही में भी इजाफा होगा।

इस नए मॉडल में कंप्युटर पर स्क्रीन शेयर करने जैसी कोई व्यवस्था नहीं होगी। कंप्युटर पर परीक्षा देने के लिए एनटीए जल्द ही हर जिले में एक केंद्र खोलेगा। इसके अलावा इस तरह से छात्रों को परीक्षा देने की तैयारी कराने के लिए भी कुछ स्कूलों और इंजीनियरिंग कॉलेजों का चयन किया जाएगा जहां कंप्युटर उपलब्ध होंगे।

इन केंद्रों पर अगस्त के तीसरे सप्ताह से हर शनिवार-रविवार जाकर छात्र परीक्षा देने का अभ्यास कर सकेंगे। गौरतलब है कि नवंबर 2017 में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने एनटीए के गठन को मंजूरी दी थी।

इसके बाद फरवरी 2019 के आम बजट भाषण में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस वर्ष से एजेंसी द्वारा प्रवेश परीक्षाएं आयोजित कराए जाने की घोषणा की और मौजूदा वित्त वर्ष में 25 करोड़ रुपए की राशि आवंटित की थी। दूसरे वर्ष से यह स्वत: ही तमाम व्यवस्थाएं करेगी।

28 लाख से अधिक देंगे परीक्षा

हर साल जेईई-मेन, नीट, यूजीसी-नेट, सीमेट और जीपेट जैसी प्रवेश परीक्षाओं के लिए कुल करीब 28 लाख 90 हजार छात्र अपना भविष्य आजमाते हैं। जेईई-मेन में ढाई लाख, नीट में 13 लाख, यूजीसी-नेट में 12 लाख, सीमेट में 1 लाख और जीपेट की प्रवेश परीक्षा में 40 हजार छात्र बैठते हैं।

परीक्षाओं की संभावित तारीख

एजेंसी ने प्रवेश परीक्षाओं की संभावित तारीख तय की है। जिसमें दो-तीन दिन में सही तारीख बता दी जाएगी। जेईई-मेन के लिए ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म भरने की तारीख 1 से 30 अगस्त है। परीक्षा की डेट 6 से 20 जनवरी 2019 के बीच होगी।

इसमें आठ सीटिंग में छात्र किसी भी एक दिन केंद्र पर जाकर परीक्षा दे सकेंगे, रिजल्ट फरवरी के पहले सप्ताह में आएगा। जेईई-मेन की ही दोबारा अप्रैल में होने वाली परीक्षा के लिए छात्र ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म फरवरी के दूसरे सप्ताह में भरेंगे। परीक्षा 7 से 21 अप्रैल के बीच 8 सीटिंग में होगी और परिणाम मई के पहले सप्ताह में आएगा।

नीट की फरवरी 2019 में होने वाली पहली प्रवेश परीक्षा में बैठने के लिए ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म 1 से 31 अक्टूबर के बीच भरे जाएंगे। परीक्षा 3 फरवरी से 17 फरवरी 2019 के बीच 8 सीटिंग में होगी। परिणाम मार्च के पहले सप्ताह में आएगा।

इसकी मई में दोबारा होने वाली परीक्षा के लिए ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म मार्च के दूसरे सप्ताह में भरे जाएंगे। परीक्षा 12 से 25 मई तक होगी। जून के पहले सप्ताह में रिजल्ट आ जाएगा।

यूजीसी-नेट की दिसंबर में होने वाली परीक्षा के लिए एप्लीकेशन फॉर्म 1 से 30 सितंबर तक भरे जाएंगे। परीक्षा 2 से 16 दिसंबर के बीच शनिवार और रविवार को दो शिफ्ट में होगी। परिणाम जनवरी 2019 के अंतिम सप्ताह में आएगा।

सीमेट, जीपेट के लिए ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म भरने के लिए 27 अक्टूबर से 15 दिसंबर 2018 तक का मौका दिया जाएगा। परीक्षा 27 जनवरी 2019 को होगी और परिणाम फरवरी के पहले सप्ताह में आएगा।

Next Story
Share it
Top