logo
Breaking

Career Advice : बी फार्मा या डी फार्मा कर बन सकते हैं फार्मासिस्ट, जानें कैसे

छात्र को 12वी के बाद अपना करियर चुनने में बहुत दिक्कत होती है। लेकिन 12वीं के बाद छात्र बी फार्मा या डी फार्मा कर अपना करियर फार्मासिस्ट में बना सकते हैं। मेडिकल क्षेत्र में बीते कुछ सालों में नौकरी की अपार संभावनाएं बनी हैं।

Career Advice : बी फार्मा या डी फार्मा कर बन सकते हैं फार्मासिस्ट, जानें कैसे

छात्र को 12वी के बाद अपना करियर चुनने में बहुत दिक्कत होती है। लेकिन 12वीं के बाद छात्र बी फार्मा या डी फार्मा कर अपना करियर फार्मासिस्ट में बना सकते हैं। मेडिकल क्षेत्र में बीते कुछ सालों में नौकरी की अपार संभावनाएं बनी हैं।

फार्मेसी में मुख्यत दो प्रकार के कोर्स आते हैं। एक होता है बी फार्मा और दूसरा होता है डी फार्मा। बी फार्मा चार साल का कोर्स होता है और डी फार्मा दो साल का कोर्स होता है इन्हें कर छात्र अपना करियर अच्छी तरह सवांर सकते हैं।

सवाल - मैं बायो ग्रुप से इंटर कर रहा हूं। मैं फार्मासिस्ट बनना चाहता हूं। इसके लिए मुझे कौन-सा कोर्स करना होगा? -राघव सिंह, शिवपुरी

उत्तर - अगर आप फार्मासिस्ट बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आप इंटर के बाद बीफार्म यानी बैचलर ऑफ फार्मेसी कोर्स कर सकते हैं, जो ग्रेजुएशन की डिग्री होती है। आप चाहें तो डीफार्म यानी डिप्लोमा इन फार्मेसी कोर्स करके भी खुद को इस सेक्टर में आगे बढ़ा सकते हैं। हालांकि बीफार्म और एमफार्म जैसी उच्चतर योग्यता हासिल कर लेने से आपको अपनी पहचान बनाने और आगे बढ़ने में मदद मिलेगी।

सवाल - मैं बीए सेकेंड ईयर का स्टूडेंट हूं। मुझे आगे क्या करना चाहिए, जिससे मुझे अच्छी जॉब मिल सके? कृपया मेरा मार्गदर्शन करें। -सोमवीर, हिसार

उत्तर - सबसे पहले तो आपको अपनी उन रुचियों पर गौर करना चाहिए, जिससे संबंधित करियर की राह पर आपको भविष्य में पैसा, पहचान और तरक्की मिलने की ज्यादा से ज्यादा संभावना हो। इसके बाद उस रुचि से जुड़ा हुआ कोई ऐसा उपयोगी कोर्स करने पर ध्यान देना चाहिए, जिससे आप जॉब मार्केट में अपनी उपयोगिता साबित करते हुए आसानी से अच्छी नौकरी हासिल कर सकें।

हां, अगर सरकारी नौकरी में रुचि है, तो आपको यह देखना होगा कि किस तरह के फील्ड में आप बेहतर कर सकेंगे, जैसे-बैंकिंग, रेलवे, एसएससी, यूपीएससी आदि। पीओ या बैंक क्लर्क के लिए प्रतियोगी परीक्षा की समुचित तैयारी करके इसे क्वालिफाई करना होगा। दूसरों का अनुकरण करने की बजाय अपनी रुचि के अनुरूप कदम बढ़ाने का प्रयास करेंगे, तो आजीवन अपने काम का आनंद ले सकेंगे और तरक्की भी पा सकेंगे।

सवाल - मैं बीकॉम कर रहा हूं। मैं यह जानना चाहता हूं कि इंश्योरेंस कंपनियों में करियर के किस तरह के स्कोप हैं? इसमें एंट्री के लिए मुझे क्या करना होगा? -ई. कुमारन, ईमेल से

उत्तर - सरकारी यानी सार्वजनिक क्षेत्र की और निजी दोनों ही तरह की इंश्योरेंस कंपनियों में इन दिनों कई तरह के जॉब के अवसर हैं। सरकारी इंश्योरेंस कंपनियों की बात करें, तो इनमें डेवलपमेंट ऑफिसर (डीओ), सहायक प्रशासनिक अधिकारी (एएओ), क्लर्क-कम-कैशियर, एक्चुअरी सहायक, प्रबंधक, मार्केटिंग ऑफिसर आदि के रूप में जॉब पा सकते हैं।

इनके लिए संबंधित इंश्योरेंस कंपनियों द्वारा आवश्यकतानुसार समय-समय पर रिक्तियों की घोषणा की जाती है, जो इनकी वेबसाइट पर भी प्रदर्शित होती हैं। इनके लिए ग्रेजुएशन, बीकॉम, बीबीए, एमबीए, पीजीडीएम आदि की जरूरत होती है। निजी क्षेत्र की इंश्योरेंस कंपनियों में इसी तरह की योग्यता की जरूरत होती है। इनके द्वारा भी रिटेन टेस्ट और इंटरव्यू के आधार पर नियुक्तियां की जाती हैं। वैकेंसी की सूचना इनकी वेबसाइट पर उपलब्ध होती है।

मैं केमिस्ट्री ऑनर्स फर्स्ट ईयर का स्टूडेंट हूं। मुझे बारहवीं में अधिक अंक नहीं मिले थे। लेकिन मैं आईआईटी जेएएम क्लीयर करना चाहता हूं। क्या मैं ऐसा कर सकता हूं? कृपया जेएएम के बारे में जानकारी दें। -किशोर, ईमेल से

बारहवीं में कम अंक आने का यह मतलब कतई नहीं है कि आगे आप अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकते या आपको ज्यादा अंक नहीं मिल सकते। चूंकि आपके मन में अपने पहले के प्रदर्शन को ठीक करने की चिंता है, इसलिए आगे आप निश्चित रूप से सुधार करते हुए आईआईटी जेएएम क्लीयर कर सकते हैं। खुद पर भरोसा रखें और अपनी कमजोरियों को दूर करते हुए फोकस्ड तैयारी करें। आईआईटी जेएएम की वेबसाइट (http://jam.iitb.ac.in) से आप इस एग्जाम के बारे में पूरी जानकारी हासिल कर सकते हैं।

Share it
Top