Logo
World Most Expensive Mango: जबलपुर के एक भक्त ने 'बाबा महाकाल' को विश्व का सबसे महंगा आम अर्पित किया। मियाजाकी आम की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 2.70 लाख प्रति किलो है। आम क्यों इतना महंगा है? खेती कहां होती है? तमाम सवालों के जवाब जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर।

World Most Expensive Mango: जबलपुर के एक भक्त ने महाकालेश्वर मंदिर पहुंचकर बाबा महाकाल को विश्व का सबसे महंगा आम आर्पित किया। आम की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 2,70,000 प्रति किलो है। आम की कीमत सुनकर निश्चित रूप से आपको यकीन नहीं होगा? लेकिन यह सच है। आम इतना महंगा क्यों है? इसकी खेती कहां होती है? भगवान को आम अर्पित करने वाला भक्त कौन है? तमाम सवालों के जबाव जानने के लिए आप सिलसिलेवार खबर पढ़ते चहिए।  

10 एकड़ में फैले फार्म हाउस में 1500 आम के पेड़ 
जबलपुर के रहने वाले संकल्प परिहार बाबा महाकाल के अनन्य भक्त हैं। संकल्प ने विकट परिस्थितियों में बाबा महाकाल का आशीर्वाद लेकर फार्म हाउस शुरू किया था। नाम महाकाल हाईब्रिड रखा है। 10 एकड़ में फैले फार्म हाउस में शुरुआती समय में आमों की वैरायटी कम थी, लेकिन धीरे-धीरे वैरायटी बढ़ती गई और अब 1500 आम के पेड़ और 16 से 17 किस्म की वैरायटी है। 

12 से ज्यादा कुत्ते करते हैं रखवाली 
महाकाल हाइब्रिड फार्म में महंगे आमों की कई वैरायटी हैं। 12 से  ज्यादा कुत्ते आम की रखवाली करते हैं ताकि कोई इन्हें चोरी न कर पाए। दिन में कुत्तों को पिंजरे में रखा जाता है। रात के समय सभी कुत्ते आमों की रखवाली करने के लिए खुले छोड़ दिए जाते हैं। कुत्ते के डर से संकल्प का फार्म हाउस पूरी तरह सुरक्षित है। 

जानें भारत में इसकी कीमत 
संकल्प सिंह का फार्म हाउस न्यू भेड़ाघाट के पास है। संकल्प परिहार का कहना है कि भारत में मियाजाकी आम की कीमत 50 हजार रुपए है। लेकिन डिमांड पर ही दिया जाता है। जबकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इस आम की कीमत 2,70,000 रुपए प्रति किलो है। संकल्प का कहना है कि मियाजाकी आम की ज्यादातर डिमांड मुंबई, पुणे, हैदराबाद सहित बड़े शहरों से आती है। यहां से आम विदेशों तक सप्लाई होता है। मियाजाकी के अलावा ऑस्ट्रेलियन आम की वैरायटी R2 V2 और जापान के प्रसिद्ध टोमेगो आम के पेड़ भी लगा रखे हैं। 

बाबा महाकाल को आम की पहली फसल 
संकल्प सिंह बाबा महाकाल के अनन्य भक्त हैं। यही कारण है कि वह आम की पहली फसल बाबा महाकाल को अर्पित करते हैं। मंगलवार को लगातार तीसरे वर्ष उज्जैन पहुंचकर संकल्प ने बाबा महाकाल को बेशकीमती आम अर्पित किए। बता दें कि आम की यह वैरायटी अन्य आमों की बजाय कुछ देरी से आती है। इस कारण यह आम जुलाई के अंतिम महीने और अगस्त की शुरुआत में बाजार में सबसे अधिक मिलते हैं।

आमों को कैमिकल की बजाय घास में पकाते हैं 
मियाजाकी आम की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 2,70,000 रुपए है। मियाजाकी आम 700 से 800 ग्राम का होता है। साथ ही फार्म हाउस में रोज मैंगो, ऑस्ट्रेलिया R2 V2, जापान के प्रसिद्ध टोमेटो आम जैसी कई वैरायटियां हैं। हाईब्रिड आमों की अधिक से अधिक ऊंचाई सिर्फ 10 फीट रहती है। आमों को कैमिकल की बजाय घास में पकाया जाता है।

jindal steel Haryana Ad hbm ad
5379487