Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पीएम मोदी ने दिल्ली के विज्ञान भवन से की मेक इन इंडिया की शुरुआत, विदेशी निवेश बढ़ाने की जोरदार कवायद

दुनियाभर के शीर्ष कारोबारी लेंगे भाग

पीएम मोदी ने दिल्ली के विज्ञान भवन से की मेक इन इंडिया की शुरुआत, विदेशी निवेश बढ़ाने की जोरदार कवायद
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन से ‘मेक इन इंडिया’ कैंपेन की शुरुआत की। इसकी लांचिंग पर निर्मला सीतारमन ने सभा को संबोधिक किया। इस मौके पर देश विदेश के कई सारे उद्योगपति मौजूद थे। टाटा के सायरस मिस्त्री ने भी अपनी कंपनी की यो़जनाओं को सभा में मौजूद लोगों के साथ साझा किया। ‘मेक इन इंडिया’ पहल का सबसे पहले जिक्र प्रधानमंत्री के स्वतंत्रता दिवस भाषण में किया गया था।
प्रधानमंत्री ने ‘जीरो डिफेक्ट, जीरो इफेक्ट’ नीति का भी उल्लेख किया था। सरकार की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि मेक इन इंडिया के तहत नियामकीय और नीतिगत मसलों से जुड़े सभी पहलुओं पर विदेशी निवेशकों का मार्गदर्शन सबसे पहले ‘इंवेस्ट इंडिया’ करेगा। नियामकीय मंजूरी दिलाने में भी यह मददगार साबित होगा। सरकार ने ऐसे 25 महत्वपूर्ण क्षेत्रों की पहचान की है जिनमें भारत विश्व स्तर पर अग्रणी बन सकता है।
जिसमें ऑटोमोबाइल, रसायन, सूचना तकनीक, दवा, कपड़ा, बंदरगाह, उड्डयन, चमड़ा, पर्यटन एवं आवभगत और रेलवे जैसे क्षेत्रों को भी कवर किया जाएगा। इसमें विकास को तेज गति प्रदान करने वालों, निवेश अवसरों, क्षेत्र विशेष के लिए तय एफडीआई और अन्य नीतियों तथा संबंधित एजेंसियों का भी ब्योरा होगा। औद्योगिक निकायों की ओर से पूछे जाने वाले सवालों का जवाब देने के लिए नव सृजित वेब पोर्टल के जरिए एक सर्मपित प्रकोष्ठ बनाया गया है।
इस पोर्टल पर उपलब्ध ह्यएफएक्यूह्य के विस्तृत सेट से निवेशकों को अपने सामान्य सवालों का जवाब ढूंढ़ने में मदद मिलेगी। वहीं, इस प्रकोष्ठ से जुड़ी सहायता टीम विशेष सवालों का जवाब 72 घंटे के अंदर देगी। बयान के अनुसार, वेबसाइट पर पंजीकरण कराने वाले लोगों अथवा सवाल करने वालों को संबंधित सूचनाएं दी जाएंगी।
नीचे की स्लाइड्स में जानिए, क्या है मेक इन इंडिया’ -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Top