Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कनाडा में चीन के खिलाफ भारत समेत कई देशों के प्रवासी क्यों कर रहे प्रदर्शन, जानें यहां

बीएलएम का विरोध रायर्सन विश्वविद्यालय में शुरू हुआ जहां लोगों को क्वीन पार्क की ओर जाने से पहले एगर्टन रायसन की प्रतिमा को हटाते हुए देखा गया। कनाडा के प्रथम प्रधानमंत्री सर जॉन, मैकडोनाल्ड और किंग एडवर्ड VII की प्रतिमाओं को भी खंडित किया गया था।

कनाडा में चीन के खिलाफ भारत समेत कई देशों के प्रवासी क्यों कर रहे प्रदर्शन, जानें यहां
X
कनाडा में चीन के खिलाफ प्रदर्शन फोटो एएनआई

कनाडा में चीनी वाणिज्य दूतावास के बाहर कई देश के लोगों ने चीन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन करने वालों में ब्रिटेन के समुदाय टोरंटो के लोग, भारत, ईरान, तिब्बत, वियतनाम आदि देशों के प्रवासी शामिल हुए। प्रदर्शनकारियों का चीन की चीनी कम्युनिस्ट पार्टी पर दुनियाभर के समुदायों के खिलाफ काम करने का आरोप है।

वहीं, कनाडा में शनिवार सुबह तीन टोरंटो की प्रतिमाओं को तोड़ दिया गया। जिसके बाद कई गिरफ्तारियां की गईं। क्योंकि ब्लैक लाइव्स मैटर टोरंटो के प्रदर्शनकारी सरकार को बचाने के लिए पुलिस की मांग को लेकर सड़कों पर उतर आए।

बीएलएम का विरोध रायर्सन विश्वविद्यालय में शुरू हुआ जहां लोगों को क्वीन पार्क की ओर जाने से पहले एगर्टन रायसन की प्रतिमा को हटाते हुए देखा गया। कनाडा के प्रथम प्रधानमंत्री सर जॉन, मैकडोनाल्ड और किंग एडवर्ड VII की प्रतिमाओं को भी खंडित किया गया था।

टोरंटो पुलिस ने सुबह 9:48 पर ट्वीट किया कि बॉन्ड और गॉल्ड सेंट में 30 से 40 लोग थे। यह कि प्रदर्शनकारी प्रतिमा को नुकसान पहुंचा रहे हैं। प्रतिमा पर पेंट फेंक रहे हैं। फिर कुछ देर बाद में पुलिस ने ट्वीट किया कि विरोध रानी के पार्क सीआर में स्थानांतरित हो गया था। डब्ल्यू और वेलेस्ले सेंट डब्ल्यू में प्रदर्शनकारियों ने मूर्तियों को नुकसान पहुंचाया है। स्प्रे पेंटिंग और संपत्ति पर पेंट की बाल्टी फेंकी है। हालांकि अधिकारी सभी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तैनात थे।

Next Story