Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भारत के सबसे पुराने धर्मगुरु डॉ. फिलिप मार क्राइसोस्टम का निधन, पीएम मोदी ने जताया शोक

जानकारी के अनुसार, डॉ. फिलिप का ज्ञान अद्भुत था। डॉ. फिलिप नॉलेज और तार्किक भाषणों के लिए जाने जाते थे। 27 अप्रैल 1918 को जन्में डॉ. फिलिप ने कुरीतियों और समाज को बांटने वालीं व्यवस्थाओं का हमेशा विरोध किया।

भारत के सबसे पुराने धर्मगुरु डॉ. फिलिप मार क्राइसोस्टम का निधन, पीएम मोदी ने जताया शोक
X

भारत के सबसे पुराने धर्मगुरुओं में से एक डॉ. फिलिप मार क्राइसोस्टम का निधन हो गया है। वह 103 साल के थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बीती रात फिलिप मार क्राइसोस्टम ने करीब 1.30 बजे केरल में पठानमथिट्टा जिले के थिरुवल्ला के एक निजी अस्पताल में अंतिम सांस ली।

जानकारी के अनुसार, डॉ. फिलिप का ज्ञान अद्भुत था। डॉ. फिलिप नॉलेज और तार्किक भाषणों के लिए जाने जाते थे। 27 अप्रैल 1918 को जन्में डॉ. फिलिप ने कुरीतियों और समाज को बांटने वालीं व्यवस्थाओं का हमेशा विरोध किया। डॉ. फिलिप सेंस ऑफ ह्यूमर भी गजब का था।

पीएम मोदी ने जताया शोक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉ. फिलिप मार क्राइसोस्टम के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है। पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए लिखा कि एक समृद्ध धर्मशास्त्रीय ज्ञान और मानव पीड़ा को दूर करने की उनकी कोशिशों को हमेशा याद किया जाएगा। डॉ. फिलिप मार क्राइस्टोटम विद्वान और मानव समाज की सेवा के लिए ख्यात थे। बता दें कि पीएम मोदी के अलावा देश के कई नेताओं और अन्य ने डॉ. फिलिप मार क्राइसोस्टम के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

पद्म भूषण से किया गया था सम्मानित

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, डॉ. फिलिप मार क्राइसोस्टम को साल 2018 मार्च के महीने में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। डॉ. फिलिप मार क्राइसोस्टॉम विश्व के सबसे बुजुर्ग बिशप माने जाते थे। फिलिप मार क्राइसोस्टम 23 अक्टूबर 1999 को मार थोमा चर्च के महानगर बने थे।

Next Story