Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गुजरात में पटेल पाटीदारों का तोड़ इस तरह निकाल रहे हैं अमित शाह

गुजरात में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह खास तौर से रणनीति बना रहे हैं।

गुजरात में पटेल पाटीदारों का तोड़ इस तरह निकाल रहे हैं अमित शाह
गुजरात में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह खास तौर से रणनीति बना रहे हैं। शाह ने आरक्षण के लिए आंदोलन पर उतरे पटेल पाटीदारों का तोड़ निकालने के लिए अब पिछड़े वर्गों पर दांव लगाना शुरू कर दिया है।
दिसंबर 2016 में हुए पंचायत चुनावों में भाजपा को पटेल पाटीदारों की वजह से बड़ा झटका लगा था। भाजपा को लगता है कि अगर पटेल पाटीदार इस बार विधानसभा चुनावों में भी साथ नहीं देते हैं तो इसकी भरपाई ओबीसी समुदाय के जरिए की जा सकती है।

गुजरात में लागू होगा यूपी का फॉर्मूला

अमित शाह गोदरा से 53 किलोमीटर दूर पिछड़े वर्गों के क्षेत्र फगवेल से चुनावी अभियान शुरू करेंगे। 18 सितंबर को शाह यहां पिछड़े वर्गों के लोगों से रूबरू होंगे। यहां ओबीसी सम्मेलन आयोजित होगा। इस दौरान वो उनकी समस्याओं को जानते हुए उन्हें दूर करने की कोशिश करेंगे।
भाजपा अध्यक्ष को लगता है कि यूपी विधानसभा चुनाव में जिस तरह गैर-यादव पिछड़ी जातियों के बूते भाजपा को भारी फायदा मिला, वो यहां गुजरात में भी काम कर सकता है। इसके लिए भाजपा ने तैयारी भी कर ली है।

ओबीसी वोट बैंक के सहारे लगेगा बेड़ा पार

गुजरात में कुल आबादी में 40 फीसदी पिछड़ी जाति के लोग हैं। यहां 146 जातियां पिछड़े वर्ग की सूची में आती हैं। इसको साधकर ही भाजपा विधानसभा में अपना बेड़ा पार लगा सकती है। भाजपा गुजरात में पिछले दो दशक से सत्ता में है, लेकिन इस बार की राह उसके लिए चुनौतीपूर्ण है।
खास बात यह है कि पिछड़े वर्ग के वोट बैंक को मजबूत करने के लिए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने ओबीसी आरक्षण में क्रीमी लेयर का दायरा 6 लाख रुपये से बड़ा कर 8 लाख रुपये कर दिया था।

हार्दिक ने शुरू किया भाजपा के खिलाफ अभियान

उधर, पटेल पाटीदारों के आंदोलन को लीड कर रहे हार्दिक पटेल ने भाजपा के खिलाफ अभियान शुरू कर दिया है। हार्दिक पटेल ने अपनी संकल्प यात्रा में लोगों से भाजपा को वोट नहीं करने की अपील की है।

पटेल का कहना है कि भाजपा ने पटेल पाटीदारों को आरक्षण के नाम पर लॉलीपॉप पकड़ाई है। हार्थिक ने कहा कि अगर मेेरे पिता भारत पटेल भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़े तो भी उन्हें वोट नहीं देना।
Next Story
hari bhoomi
Share it
Top